Yo Diary

एच1बी वीजा आवेदन प्रक्रिया 2 अप्रैल से शुरू, प्रीमियम पर अस्थायी रोक

वॉशिंगटन :भारतीय पेशेवरों के बीच प्रचलित एच1 बी वीजा के लिए आवेदन प्रक्रिया दो अप्रैल से शुरू होगी. एक संघीय एजेंसी ने आज इसकी घोषणा की. इसके साथ ही एच1 बी वीजा आवेदनों की प्रीमियम संस्करण पर फिलहाल अस्थायी रोक लगा दी गयी है. एच1 - बी वीजा एक गैर- प्रवासी वीजा है जो कि अमेरिकी कंपनियों को दक्ष विदेशी कर्मचारियों को नौकरी पर रखने की अनुमति देता है. प्रौद्योगिकी कंपनियां इस वीजा पर बहुत अधिक निर्भर हैं और हर साल भारत और चीन जैसे देशों से हजारों कर्मचारियों को नौकरियां देते हैं.

अमेरिका के नागरिकता एवं आव्रजन सेवा( यूएससीआइएस) विभाग ने कहा कि वित्त वर्ष 2019 के लिए एच1 बी वीजा आवेदन दाखिल करने की तिथि एक अक्तूबर से शुरू हो रही है. सभी एच1 बी वीजा आवेदनों की प्रीमियम प्रसंस्करण पर रोक लगा दी गयी, जिसके10 सितंबर 2018 तक जारी रहने की उम्मीद है. यूएससीआइएस ने कहा कि इस समय के दौरान वह उन एच-1 बी आवेदनों के प्रीमियम प्रसंस्करण का अनुरोध स्वीकार करना जारी रखेगा जो वित्त वर्ष 2019 की सीमा के अधीन नहीं हैं. आव्रजन विभाग ने कहा कि प्रीमियम प्रोसेसिंग पर अस्थायी रोक एच1 बी वीजा की प्रक्रिया में लगने वाले समय को कम करने में मदद करेगा. यह काफी समय से लंबित पड़े आवेदनों को निपटाने की प्रक्रिया में सक्षम होगा. 15 दिन की एच1 बी वीजा प्रीमियम प्रसंस्करण सेवा अमेरिकी नियोक्ताओं को अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए और एक विदेशी कर्मचारी की नियुक्ति के लिए एच1 बी वीजा आवेदन को शीघ्र निपटाने का अवसर देती है. हालांकि, इस सेवा के लिए नियोक्ता को कुछ शुल्क देना होता है.

क्या है एच -1बी वीजा ?

एच-1बी वीजा अमेरिका में मिलने वाला एक गैर-प्रवासी वीजा है. इस वीजा के जरिये किसी कामगार को अमेरिका में छह साल काम करने का मौका मिल जाता है. यह वीजा अमेरिका में कार्यरत कंपनियों को ऐसे कुशल कर्मचारियों को रखने के लिए दिया जाता है जिनकी अमेरिका में कमी हो. इस वीजा के लिए कुछ शर्तें भी हैं. जैसे इसे पाने वाले व्यक्ति को स्नातक होने के साथ किसी एक क्षेत्र में विशेष योग्यता हासिल होनी चाहिए. साथ ही इसे पाने वाले कर्मचारी की सैलरी कम से कम 60 हजार डॉलर यानी करीब 40 लाख रुपए सालाना होना जरूरी है. इस वीजा की एक बड़ी विशेषता यह भी है कि यह अन्य देशों के लोगों के लिए अमेरिका में बसने का रास्ता भी आसान कर देता है. अधिक मांग के कारण इस वीजा को लॉटरी के जरिये दिया जाता है.