Yo Diary

बढ़ाई गई फीस नहीं दे पाने पर छात्र को स्कूल से निकाला

कोलकाता, जागरण संवाददाता।स्कूल की बढ़ाई गई फीस नहीं दे पाने पर दूसरी कक्षा के एक बच्चे को स्कूल से निकाल दिया गया।यह घटना खिदिरपुर के अल-हम्द डब्ल्यूएसए हाई स्कूल में सामने आई है। राज्य के स्कूल शिक्षा विभाग ने जानकारी मिलने के बाद मामले की जांच शुरू की है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक स्कूल की मासिक फीस 700 रुपये से बढ़ाकर 1,000 रुपये कर दी गई थी। बच्चे के माता-पिता ने जब बढ़ाई गई फीस का भुगतान करने के लिए थोड़ा समय मांगा तो उन्होंने बच्चे का ट्रांसफर सर्टिफिकेट (टीसी) पकड़ा दिया। टीसी में स्कूल के सचिव के हस्ताक्षर हैं और स्कूल का सील भी लगा हुआ है। उसमें लिखा है-'मुझे यह जानकर बहुत अफसोस हुआ कि आप मेरे स्कूल का फीस नहीं भर सकते। मैं आपके बच्चे को भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं।' वेस्ट बंगाल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (डब्ल्यूबीबीएसई) के अध्यक्ष कल्याणमय गांगुली ने कहा कि बच्चे की पिता की शिकायत के आधार पर विस्तृत जांच कर स्कूल शिक्षा विभाग एवं मुख्यमंत्री कार्यालय के पास रिपोर्ट भेजी गई है।

कोई भी स्कूल सिर्फ इस आधार पर एक बच्चे की पढ़ाई बंद नहीं करा सकता क्योंकि उसके पिता स्कूल की फीस नही भर सकते। अब विभाग तय करेगा कि उस स्कूल के खिलाफ क्या कार्रवाई करनी है। शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने शिकायत मिलने की पुष्टि करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने स्पष्ट रूप से कहा है कि कोई भी स्कूल अतिरिक्त शुल्क की मांग नहीं कर सकता। इस मामले में जांच की जा रही है। शिक्षा मंत्री ने यह भी सूचित किया कि राज्य सरकार नई शिक्षा नीति का मसौदा तैयार कर रही है।

गौरतलब है कि इस स्कूल को डब्ल्यूबीबीएसई से दो साल पहले ही मान्यता मिली है। बच्चे के पिता मोहम्मद इस्लाम नेबताया-'स्कूल सर्दियों की छुट्टी के बाद नए सत्र के लिए 8 जनवरी को खुला था। सभी अभिभावकों को 6 जनवरी तक बढ़ी हुई फीस का भुगतान करने को कहा गया था। मैंने एवं कुछ अभिभावकों ने पहले अचानक बढ़ाई गई फीस का विरोध किया था। बाद में मैंने जब देर से भुगतान संबंधी शुल्क के साथ फीस का भुगतान करने की बात कही उन्होंने मेरे बेटे को टीसी पकड़ा दिया।'