Yo Diary

ममता ने एनआरसी को बताया बंगालियों के खिलाफ साजिश, एफआइआर दर्ज

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि पश्चिम बंगाल सर्वधर्म सद्भाव में विश्वास रखता है। धर्म के नाम पकोलकाता, जेएनएन। असम के दिसपुर थाना में असम श्रमिक उन्नयन परिषद के अध्यक्ष प्रदीप कलिता ने बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराया है। बुधवार को वीरभूम जिले के आमोदपुर में आयोजित जनसभा में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन (एनआरसी) के खिलाफ टिप्पणी करने पर प्रदीप कालिता ने पुलिस से शिकायत की।

सभा में ममता बनर्जी ने कहा था कि बंगाल से काफी संख्या में लोग असम में नौकरी करते हैं। नेशनल रजिस्टर आफ सिटीजन की आड़ में सरकार वहां जीविका चला रहे लोगों को खदेड़ना चाहती है। ममता ने केंद्र की भाजपा सरकार को चेतावनी दी कि वह आग से न खेलें। पूरे देश में अशांति न फैलाएं। यदि लोगों को जबरदस्ती वहां से हटाया गया, तो हम भी इसका मुहतोड़ जवाब देंगे। उन्होंने कहा कि असम बंगाल की सीमा से सटा हुआ है। किसी प्रदेश में अशांति का प्रभाव पड़ोसी राज्य पर भी पड़ेगा। सभी राज्यों को कोशिश करनी चाहिए कि शांति बनी रहे। केंद्र में भाजपा सरकार के पास कोई काम नहीं रह गया है। वह पूरे देश को अशांति की आग में झोंकना चाहती है। एक भारतीय होने के नाते हमें पूरे देश में कहीं भी काम करने का संविधानिक अधिकार है। इसे लेकर असम श्रमिक उन्नयन परिषद के अध्यक्ष ने ममता के खिलाफ थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है।

सर्वधर्म में विश्वास रखता है बंगालः ममता

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि पश्चिम बंगाल सर्वधर्म सद्भाव में विश्वास रखता है। धर्म के नाम पर लोगों को बांटना ठीक नहीं है। मुख्यमंत्री ने स्वामी विवेकानंद और रामकृष्ण परमहंस का उदाहरण देते हुए कहा कि गेरुआ वस्त्र मनीषी भी धारण करते हैं। लेकिन आज इसका दुरुपयोग किया जा रहा है। इसका दुरुपयोग करनेवालों का वह विरोध करती हैं। मुख्यमंत्री ने गुरुवार को वीरभूम में बाउल उत्सव का उद्घाटन समारोह में यह बातें कही। उन्होंने बाउल और लोक कलाकारों को संबोधित करते हुए कहा कि विभिन्न कलाकारों को एक साथ वह दिल्ली में होनेवाले गणतंत्र दिवस परेड में भेजना चाहती थी लेकिन केंद्र ने उनका प्रस्ताव खारिज कर दिया। आपसी सद्भावना पर राज्य के झांकी प्रस्तुत करने का उनका प्रस्ताव केंद्र को रास नहीं आया। भाजपा इस तरह राजनीतिक भेद-भाव कर रही है। उन्होंने कहा कि कौन क्या खाएगा और क्या पहनेगा यह केंद्र तय नहीं कर सकता है। लोगों के निजी मामले में हस्तक्षेप करने का अधिकार किसी को नहीं है। मदद नहीं करने का आरोपमुख्यमंत्री ने केंद्र पर राज्य को मदद नहीं करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि केंद्र राज्य को आर्थिक

विश्व बांग्ला विवि की घोषणा

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह वीरभूम में विश्व बांग्ला विश्वविद्यालय की स्थापना करेंगी। विश्व स्तर का यह अपनी तरह का अलग विश्वविद्यालय होगा। उन्होंने लोक कलाकारों के लिए गीत वितान की स्थापना करने की बात कही और मकर संक्राति को लोक संस्कृति दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि 14 जनवरी को गंगा सागर मेला लगेगा उस दिन मकर संक्रांति के दिन लोक संस्कृति दिवस मनाया जाएगा।

विश्व बांग्ला विवि की घोषणा