Yo Diary

CM योगी को HC से राहत, गोरखपुर दंगा मामले के केस चलाने की याचिका खारिज

इलाहाबाद :इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने वर्ष 2007 में गोरखपुर में हुए कथित दंगे के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को समन जारी करने का आदेश खारिज करने के सत्र अदालत के फैसले को आज बरकरार रखा. इस मामले में गोरखपुर के तत्कालीन सांसद योगी आदित्यनाथ और कई अन्य लोगों के खिलाफ गोरखपुर के कोतवाली थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी. न्यायमूर्ति बीके नारायण ने रशीद खान की याचिका खारिज करते हुए उक्त आदेश पारित किया. रशीद खान के कहने पर यह प्राथमिकी दर्ज की गयी थी. याचिकाकर्ता ने 28 जनवरी, 2017 को सत्र अदालत द्वारा पारित आदेश को चुनौती देते हुए कहा था कि यह आदेश सुनाते समय उसका पक्ष नहीं सुना गया था. याचिकाकर्ता की ओर से वकील एसएफए नकवी ने दलील दी थी कि इस मामले में मुखबिर होने की वजह से रशीद एक आवश्यक पक्ष है, लेकिन सत्र न्यायाधीश ने याचिकाकर्ता का पक्ष सुने बिना ही संज्ञान का आदेश खारिज कर दिया.

कोतवाली थाने में 27 जनवरी, 2007 को दर्ज प्राथमिकी में योगी और अन्य लोगों पर दो समुदायों के बीच वैमनस्य को बढ़ावा देने का आरोप लगाया गया था. इस मामले में पुलिस ने योगी और अन्य के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था. बाद में आरोप पत्र के आधार पर मजिस्ट्रेट ने संज्ञान लेने का आदेश पारित किया जिसे सत्र अदालत में चुनौती दी गयी. इस याचिका का विरोध करते हुए अतिरिक्त महाधिवक्ता मनीष गोयल ने अतिरिक्त सरकारी वकील एके सांड के साथ यह दलील दी कि संज्ञान लेने का आदेश पारित करते समय मजिस्ट्रेट के लिये राज्य सरकार की पूर्व मंजूरी लेना आवश्यक था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ था और इसी आधार पर सत्र अदालत ने इस आदेश को खारिज कर दिया.

Technology

टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री के दिग्गज जॉन चैंबर्स ने कहा, डेटा को स्थानीय स्तर पर स्टोर करने पर ज्यादा जोर

Puch Hole डिस्प्ले के साथ 29 जनवरी को लॉन्च होगा Honor V20, फ्री में मिलेगा इयर फोन

4G सिम होने के बाद भी आपके इंटरनेट की स्पीड क्यों हैं स्लो? इन टिप्स से बढ़ाएं 4G स्पीड

Huawei Y9 (2019) भारत में हुआ लॉन्च, 4 AI कैमरा और 4000mAh बैटरी है खासियत

IIT खड़गपुर में शुरू होगा छह माह का AI कोर्स