Yo Diary

उत्तर प्रदेश के कासगंज में तीसरे दिन भी हिंसा जारी, आगजनी-लूटपाट के बाद कर्फ्यू, रैफ ने किया फ्लैग

कासगंज उत्तर प्रदेश के कासगंज में कर्फ्यू, पीएसी और पुलिस के जवानों की तैनाती के बावजूद हिंसा की घटनाएं जारी हैं. रविवार को तीसरे दिन भी हिंसा का दौर जारी रहा. उपद्रवियों ने दुकानों में तोड़फोड़ की, लूटपाट और आगजनी भी की. इसके बाद इलाके में कर्फ्यू लगा दिया गया. रैफ की टीम ने क्षेत्र में फ्लैग मार्च किया. एटा के जिलाधिकारी आरपी सिंह ने कहा है कि इस सबके पीछे साजिश हो सकती है. साथ ही उन्होंने जोड़ा कि इसके बारे में उन्हें कुछ मालूम नहीं.

एटा के डीएम ने बताया कि अब तक हिंसा फैलाने के आरोप में नामजद 9 लोगों सहित कुल 50 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. इन सबके पीछे कुछ लोग हैं, जिनकी पहचान कर ली गयी है. उन्होंने बताया कि रविवार को हुई हिंसा की किसी घटना में कोई घायल नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि ड्रोन से क्षेत्र की निगरानी की जा रही है. भारी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती और कर्फ्यू के बावजूद उपद्रवियों ने शनिवार को शहर में तांडव मचाया. तीन दुकानों, दो निजी बसों और एक कार को आग लगा दी. हिंसा की घटनाएं नगर के मुख्य बाजार घंटाघर, सहावर गेट और बिलराम गेट पर हुईं. बिलराम गेट पर रुक-रुक कर फायरिंग भी होती रही. प्रशासन ने 28 जनवरी की रात 10 बजे तक इंटरनेट सेवाएं बंद कर दीं, ताकि सोशल मीडिया के जरिये फैलने वाली अफवाहों को रोका जा सके.

हिंसा के कारण हुई क्षति के बारे में अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) आनंद कुमार ने बताया कि तीन दुकानों में तोड़फोड़ की गयी है. उनके शटर के नीचे पेट्रोल डालकर आग लगा दी गयी. दो निजी बसों में भी पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी गयी है. एक खाली पड़े मकान को असामाजिक तत्वों ने फूंक दिया. शाम को उपद्रवियों ने एक खाली खड़ी कार को भी आग लगा दी. उन्होंने दावा किया कि शनिवार को कोई हिंसा नहीं हुई. हिंसक घटना केवल शुक्रवार को ही हुई थी. शुक्रवार को कुछ असामाजिक तत्वों ने एक मस्जिद के गेट को तोड़ने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने उन्हें खदेड़ दिया.

इस बीच, जिलाधिकारी आरपी सिंह ने कहा कि हिंसा प्रभावित क्षेत्र में इंटरनेट सेवाएं 28 जनवरी रात 10 बजे तक बंद कर दी गयी हैं. प्रमुख सचिव (गृह) अरविंद कुमार ने कहा कि शुक्रवार को दो मामले दर्ज किये गये थे. दो मामलों में नौ गिरफ्तारियां की गयीं. 40 और लोगों को एहतियातन गिरफ्तार किया गया. आगरा जोन के अपर पुलिस महानिदेशक, अलीगढ़ के मंडलायुक्त, अलीगढ़ रेंज के पुलिस महानिरीक्षक शुक्रवार से ही मौके पर हैं. पुलिस महानिरीक्षक स्तर के अधिकारी डीके ठाकुर को लखनऊ से कासगंज भेजा गया है. वह भी वहां मौजूद हैं. कुमार ने बताया कि पीएसी की पांच कंपनियां और रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) की एक कंपनी कासगंज में तैनात है. जोन से अतिरिक्त सिविल पुलिस अधिकारी एवं अन्य पुलिसकर्मी भी पहुंच गये हैं. आरएएफ की एक और कंपनी मौके पर भेज दी गयी है.

उन्होंने बताया कि शुक्रवार की हिंसा में मारे गये लड़के की शनिवार सुबह शांतिपूर्ण अंत्येष्टि के बाद कुछ उप​द्रवियों ने शांति भंग करने का प्रयास किया, लेकिन उनसे सख्ती से निबटा गया. शहर के बाहरी हिस्सों में आगजनी के छिटपुट प्रयास हुए. दोपहर डेढ़ बजे के बाद कहीं कोई आगजनी नहीं हुई. कड़ी निगरानी की जा रही है. जिला प्रशासन को निर्देश है कि वह दंगाईयों से कड़ाई से पेश आये और किसी को कानून हाथ में लेने की अनुमति न दे. जिलाधिकारी ने धारा—144 लागू कर दी है. स्थिति नियंत्रण में है. राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि निषेधाज्ञा लागू है. उन्होंने हालांकि यह स्पष्ट नहीं किया कि कर्फ्यू उठाया गया है या नहीं. अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) ने कहा कि कुल 50 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है. अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे हैं. गिरफ्तार लोगों की संख्या बढ़ सकती है.

पुलिस ने बयान जारी कर दिया घटना का विवरण उत्तर प्रदेश पुलिस ने एक बयान में कहा, ‘26 जनवरी को प्रातः कस्बा कासगंज में कुछ लोग मोटरसाइकिलों पर हाथ में तिरंगा लेकर भारत माता की जय के नारे लगाते हुए भ्रमण कर रहे थे. जुलूस जैसे ही अल्पसंख्यक बाहुल्य क्षेत्र बड्डूनगर के क्षेत्र में पहुंचा, तो कुछ उपद्रवी तत्वों द्वारा पथराव व फायरिंग कर दी गयी, जिससे दोनों पक्षों में विवाद उत्पन्न हो गया तथा अफरा-तफरी मच गयी. इसी बीच फायरिंग के फलस्वरूप अभिषेक गुप्ता उर्फ चंदन एवं नौशाद दो नवयुवक गोली लगने से घायल हो गये. घायल चंदन को उपचार के लिए सरकारी अस्पताल भेजा गया, जहां उसकी मौत हो गयी. नौशाद को गंभीर अवस्था में अलीगढ़ रेफर कर दिया गया.’

Technology

भारत में Google Pixel 3, Pixel 3 XL लॉन्च, जानें कीमत-फीचर्स

BSNL 5G इंटरनेट सेवा शुरू करने के करीब, टेलीकॉम बाजार में मचेगा धमाल

कौन हैं ये कोमल लाहिरी? Whatsapp ने जिन्‍हें सौपी है बड़ी जिम्‍मेदारी

सैमसंग ने स्मार्टफोन की नई टेक्नोलॉजी दिखाई

20,000 रुपये से कम कीमत में इन 4 स्मार्टफोन्स में मिलती है iPhoneX जैसी स्क्रीन