Yo Diary

आलू से सजे अरमान, अब सब्जी की खेती बढ़ाएंगे मान

(चंदौली):बाप दादे के नक्शे कदम पर चलकर रघुनाथपुर गांव के युवा किसान माता शरण पांडेय ने जैविक खेती को हथियार बना लिया है। जैविक विधि से आलू की खेती की भरपूर मुनाफे से उनके अरमान सज गए। जिसके आगे युवा किसान ने कदम बढ़ाते हुए सब्जी की खेती से मान बढ़ाने की तैयारी कर ली है। उनका आत्म विश्वास देख दूसरे किसान भी जैविक खेती की ओर धीरे-धीरे ही सही लेकिन कदम बढ़ाने लगे हैं।

माता शरण पांडेय लगभग 20 बीघे के काश्तकार हैं। इनके स्वर्गीय चाचा संतराम पांडेय से नसीहत लेकर आधुनिक व जैविक खेती की ओर अपना ध्यान केंद्रित किया। धान की प्रमुख फसल के अलावा दलहनी व तिलहनी फसलों में रासायनिक उर्वरक का प्रयोग मामूली मात्रा में करते हैं। कई वर्षाें से जैविक व कंपोस्ट उर्वरक का उपयोग अधिकाधिक मात्रा में करते हैं।

कहते हैं जैविक व कंपोस्ट से खेती करने से भूमि की उर्वरा शक्ति बनी रहती है। स्वास्थ्य पर अच्छा असर पड़ता है। धान ,गेहूं के अलावा दलहनी व तिलहनी फसलों में भी पशुओं के गोबर व केचुएं से तैयार कंपोस्ट खाद का प्रयोग करते हैं। कहा प्रयास है कि आलू समेत हरी सब्जियों का उत्पादन भी जैविक व कंपोस्ट उर्वरक के माध्यम से किया जाय। दो बीघे में आलू की खेती किए हैं। कम लागत में आलू का बेहतर उत्पादन हुआ है। आलू के भाव में काफी गिरावट होने से आर्थिक मुनाफा बेहतर नहीं हो सका। बावजूद इसके खेती की उर्वरा शक्ति बनी हुई है और तैयार आलू को सड़ने गलने की संभावना कम है।

Technology

भारत में Google Pixel 3, Pixel 3 XL लॉन्च, जानें कीमत-फीचर्स

BSNL 5G इंटरनेट सेवा शुरू करने के करीब, टेलीकॉम बाजार में मचेगा धमाल

कौन हैं ये कोमल लाहिरी? Whatsapp ने जिन्‍हें सौपी है बड़ी जिम्‍मेदारी

सैमसंग ने स्मार्टफोन की नई टेक्नोलॉजी दिखाई

20,000 रुपये से कम कीमत में इन 4 स्मार्टफोन्स में मिलती है iPhoneX जैसी स्क्रीन