YoDiary

रिलायंस जियो के 2 साल: मुकेश अंबानी ने यूजर्स को क्या तोहफे दिए, यहां जानिए

रिलायंस जियो 2 साल का हो गया है या यू कहें जियो की लॉन्चिंग को 2 साल पूरे हो गए हैं. इन दो सालों में रिलायंस जियो ने टेलीकॉम इंडस्ट्री में तहलका मचाया. डिजिटल क्रांति के जरिए हर भारतीय तक इंटरनेट पहुंचाया. मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली जियो ने फ्री कॉलिंग से लेकर कई तोहफे यूजर्स तक पहुंचाए. नई एंट्री के बाद रिलायंस जियो ने टेलीकॉम मार्केट में खुद को एक बड़े लीडर के रूप में पेश किया. 2 साल में जियो ने यूजर्स को क्या दिया. मार्केट में अपनी अलग पहचान कैसे बनाई आइये जानते हैं.

रिलायंस जियो के नाम इन दो साल में कई कीर्तिमान हैं. लेकिन, सबसे अहम है सब्सक्राइबर्स को अपने साथ जोड़ने का रिकॉर्ड. दो साल में किसी भी टेक्नोलॉजी कंपनी के मुकाबले रिलायंस जियो ने सबसे तेज यूजर्स को अपने साथ जोड़ा. एक आंकड़े के मुताबिक, जियो ने हर सेकंड में 7 यूजर्स को अपने साथ जोड़ा यानी महज 170 दिन में 100 मिलियन यूजर्स जियो के साथ जुड़े. दो साल में कंपनी का यूजर बेस 215 मिलियन यानी 21.5 करोड़ यूजर्स तक पहुंच गया.

मुकेश अंबानी ने यूजर्स को सबसे बड़ा तोहफा फ्री कॉलिंग का दिया. मोबाइल के खर्च से परेशान यूजर्स को फ्री वॉयस कॉलिंग मिलने से टेलीकॉम मार्केट में नई क्रांति की शुरुआत हुई. यही वजह थी कि दूसरी कंपनियों को भी अपने टैरिफ में बदलाव करना पड़ा. जिसके चलते दूसरी कंपनियों को नुकसान हुआ और जियो को मिला बड़ा फायदा. इससे पहले तक फ्री कॉलिंग सिर्फ सपना ही था. जियो ने टैरिफ प्लान के जरिए यूजर्स को अनलिमिटेड फ्री कॉलिंग की सुविधा दी. मजबूरन दूसरी कंपनियों को भी फ्री कॉलिंग शुरू करनी पड़ी.

रिलायंस जियो के लॉन्च के बाद से भारत में डाटा को लेकर नई पहल शुरू हुई. गांव-गांव तक इंटरनेट पहुंचा. स्पीड में सुधार हुआ और डाटा का बड़ा जाल पूरे भारत में फैल गया. जहां पहले हर महीने सिर्फ 20 करोड़ जीबी डाटा की खपत थी. वहीं, अब यह बढ़कर 370 करोड़ जीबी तक पहुंच गई. जियो यूजर्स 240 करोड़ जीबी डाटा का इस्तेमाल हर महीने करते हैं. डाटा खपत के मामले में जियो पहले नंबर की टेलीकॉम कंपनी है. खास बात यह है कि जियो की एंट्री से पहले 1 जीबी डाटा की कीमत 250 रुपए थी, लेकिन जियो की एंट्री के बाद यह महज 15 रुपए प्रति जीबी पर आ गई.

जियो का भारत में सबसे ज्यादा LTE कवरेज है. यह किसी भी अन्य टेलीकॉम कंपनियों के मुकाबले सबसे ज्यादा है. जियो जल्द ही 99 फीसदी भारतीय जनसंख्या को कवर कर लेगा. जियो की वजह से ही भारत ने पिछले 25 साल में पहली बार 2जी कवरेज की तुलना में 4जी कवरेज का विस्तार किया. यह दुनिया में सबसे तेजी से फैलता नेटवर्क बना. आज कंपनी देश के हर कोने में 4जी सर्विस पहुंचाने के मामले में पहली कंपनी है. रिलायंस जियो ने LYF डिवाइस लॉन्च की. इससे स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनियों ने LTE तकनीक पर फोकस करना शुरू किया. अब ज्यादातर मोबाइल हैंडसेट इस फीचर्स के साथ उपलब्ध है. इसके अलावा रिलायंस जियो ने जियोफाई लॉन्च किया. इससे यूजर्स को एक साथ कई डिवाइस में इंटरनेट की सुविधा मिली. खास बात यह रही कि इस डिवाइस की मदद से यूजर्स को अपने पुराने 2जी और 3जी हैंडसेट पर ही VoLTE कॉल्स की सुविधा मिली. यह किसी भी कंपनी के लिए बड़ी उपलब्धि है.

साल 2018 की एजीएम में रिलायंस जियो के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने जियो फोन-2 लॉन्च किया. साथ ही यूजर्स के बीच जियो फोन बनाए रखने के लिए पुराने हैंडसेट को अपग्रेड किया गया. जियो फोन 2 की भी बिक्री शुरू हो चुकी है. इससे पहले पिछले साल कंपनी ने फीचर फोन की दुनिया में अपना जियो फोन लॉन्च किया था. साल 2018 की एजीएम में रिलायंस जियो के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने जियो गीगा फाइबर का ऐलान किया. जियो गीगा फाइबर एक फाइबर ब्रॉडबैंड सेवा है, जिसे नवंबर में शुरू किया जा सकता है. इसके जरिए यूजर्स को और स्मार्ट बनाने का सपना मुकेश अंबानी ने देखा है. स्मार्ट होम, स्मार्ट टीवी के साथ इंटरनेट से घरों की सुरक्षा जैसे फीचर्स से लैस गीगा फाइबर एक नई क्रांति लेकर आएगा.




COMMENTS

Suraj misra

Good work

Ravi

Nice