YoDiary

9 कैमरे वाला दुनिया का पहला फोन

हाल ही में पांच कैमरे वाले एलजी स्मार्टफोन की जानकारी आई थी, जिसमें अब तक के फोन के मुकाबले सबसे ज्यादा कैमरे थे। लेकिन, इस फोन की आधिकारिक घोषणा होने से पहले ही यह कैमरे के मामले में पिछड़ गया है। दरअसल, लाइट नाम की कंपनी ने अपने एक फोन का प्रोटोटाइप तैयार किया है, जिसमें 9 कैमरे दिखाए गए हैं। यह इस दुनिया का पहला स्मार्टफोन में है जिसमें 9 कैमरे होंगे। इसके बारे में बता रहे हैं रोहित कुमार।

लाइट एक अमेरिकी डिजिटल फोटोग्राफी कंपनी है जो मल्टीपल-लेंस और मल्टी सेंसर वाले कैमरों का सेटअप तैयार करती है जिन्हें स्मार्टफोन में लगाया जाता है। साथ ही यह स्मार्टफोन का भी उत्पादन करती है। इस कंपनी का उद्देश्य एक डिवाइस में ढेरों कैमरे लगाकर, उनसे हाई क्वालिटी की पिक्चर कैप्चर करना है। लाइट कंपनी का दावा है कि यह 9 कैमरे वाला फोन 64 मेगापिक्सल की फोटो कैप्चर करने में सक्षम है। अन्य जानकारी के मुताबिक यह नौ कैमरे वाला डिवाइस डुअल और ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप वाले कैमरों से कहीं ज्यादा अच्छी फोटो क्लिक कर सकता है। डुअल कैमरा सेटअप फोन हाई-क्वालिटी डेप्थ इफेक्ट और कम रोशनी में शानदार फोटो क्लिक कर सकते हैं। हालांकि अभी इस बात की जानकारी नहीं है कि इसमें कितने कैमरे सामने होंगे और कितने कैमरे पीछे दिए जाएंगे।

बैक पैनल पर तीन कैमरा वाला फोन हो चुका है लॉन्च

हाल ही में चीनी कंपनी हुवावे ने अपना 'हुवावे पी20 प्रो' स्मार्टफोन लॉन्च किया जो भारत में भी उपलब्ध है। इस फोन में पीछे की तरफ तीन कैमरे दिए गए हैं और सामने की तरफ एक कैमरा है। बैक पैनल पर 40MP+ 20MP+8MP कैमरों का सेटअप है। 40 मेगापिक्सल आरजीबी सेंसर है और दूसरा 20 मेगापिक्सल मोनोक्रोम सेंसर है। इसके अलावा तीसरा सेंसर 8 मेगापिक्सल टेलीफोटो लेंस है। वहीं, इस साल लॉन्च होने वाला आईफोन तीन कैमरा सेटअप के साथ आ सकता है।

16 लेंस वाला कैमरा पहले से मौजूद

लाइट कंपनी का एक कैमरा पहले से मौजूद है जिसमें 16 लेंस का सेटअप है। इसका नाम एल16 है। इसमें लगाए गए सेंसर अलग-अलग एंगल पर है जो एक साथ फोटो को क्लिक करते हैं। यह कैमरा 52 मेगापिक्सल की फोटो क्लिक करने में मदद करता है। इस कैमरे की कीमत 1950 अमेरिकी डॉलर (लगभग 1,33,969 रुपये) निर्धारित की गई है। वहीं स्मार्टफोन में कंपनी ने 9 सेंसर का इस्तेमाल किया है।

16 लेंस वाला कैमरा पहले से मौजूद

कंपनी के मुताबिक हर एक कैमरा अपना फोकस एक ऑब्जेक्ट पर सेट करता है। इसके बाद सभी सेंसर अपनी फोटो खींचते हैं जिसके बाद एक प्रोसेसर उन फोटो को मिलाकर एक कर देता है। ऐसे में वह फोटो एक दम साफ दिखाई देगी, जिसमें भी तरह का धुंधलापन नहीं होगा। साथ ही इसमें ब्लर करने का भी विकल्प होगा। वहीं, डुअल कैमरा सेटअप में एक प्राइमरी लेंस होता है, जो मुख्य काम करता है। दूसरा सेकेंडरी लेंस अतिरिक्त लाइट, डेप्थ ऑफ फील्ड और बैकग्राउंड ब्लर जैसे इफेक्ट्स कैप्चर करता है।

2011 से हुई थी ज्यादा कैमरों की शुरुआत :- डुअल कैमरा फोन सबसे पहले साल 2011 में लॉन्च हुआ था। एटटीसी के इवो 3डी में सबसे पहले डुअल कैमरा सेटअप देखने को मिला था। यह डुअल कैमरा सेटअप 3डी तस्वीरें लेने के लिए तैयार किया गया था। इसके बाद इस टेक्नॉलजी के साथ प्रयोग किए जाते रहे, मगर आइडिया कामयाब नहीं हुआ। साल 2014 में एचटीसी कंपनी ने नया फोन एम8 पेश किया है जिसमें डुअल रियर कैमरा सेटअप दिया गया था, जो काफी शानदार डेप्थ ऑफ फील्ड इफेक्ट कैप्चर करता था।




COMMENTS

Suraj misra

Good work

Ravi

Nice