Yo Diary

सचिन का कहा सच हुआ, टीम इंडिया के 'ट्रंप कार्ड' पंड्या ने कर दिया कमाल

टीम इंडिया के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या ने केपटाउन टेस्ट में ताबड़तोड़ 93 रनों की पारी खेलकर सबका दिल जीता, साथ ही महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर की वह भविष्यवाणी भी सच कर दी जो साउथ अफ्रीका दौरे से पहले उन्हें लेकर मास्टर ब्लास्टर ने की थी.

दरअसल, सचिन ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज शुरू होने के कुछ ही दिन पहले कहा था कि साउथ अफ्रीका की धरती पर 'ऑलराउंडर' हार्दिक पंड्या टीम इंडिया के 'ट्रंप कार्ड' साबित होंगे.

सचिन ने कहा था कि '24 साल के मेरे क्रिकेट करियर के दौरान भारतीय टीम उतनी संतुलित नहीं रही, जितनी आज है. टीम इंडिया को बैलेंस्ड बनाने में हार्दिक पंड्या के प्रदर्शन का बड़ा हाथ है.' 24 साल के पंड्या की तारीफ करते हुए सचिन ने कहा, 'वह एक ऐसा खिलाड़ी है जो 17-18 ओवर फेंक सकता है और नंबर-7 या 8 पर अच्छे रन भी बना सकता है.'

सचिन ने कहा था कि 'पंड्या के लिए यह सबसे बड़ी सीरीज होने वाली है और विराट के लिए यह ऑलराउंडर किसी खजाने से कम नहीं साबित होगा.' निश्चित रूप से आज पंड्या ने केपटाउन में वह कर दिखाया जो सचिन ने कहा था. इस मैच में हार्दिक पंड्या 7वें नंबर पर बल्लेबाजी करने के लिए आए थे. पंड्या जब बैटिंग के लिए आए उस समय टीम इंडिया का स्कोर 81 रन पर 6 विकेट था और भारत की स्थिति बेहद नाजुक थी. लेकिन, हार्दिक पंड्या ने आक्रामक रुख अपनाते हुए 93 रन ठोक दिए और भारतीय टीम को कम स्कोर पर ऑल आउट होने से बचा लिया.

इसके अलावा साउथ अफ्रीका की पहली पारी में पंड्या ने 12 ओवर की गेंदबाजी करते हुए फाफ डु प्लेसिस का अहम विकेट झटका. आपको बता दें कि यह कोई पहला मौका नहीं जब पंड्या ने इस तरह की पारी खेली है. इससे पहले उन्होंने पिछले साल श्रीलंका के खिलाफ तूफानी 108 रन ठोक कर अपना लोहा मनवाया था. तब महज तीसरा टेस्ट खेल रहे हार्दिक पंड्या ने पल्लेकेल टेस्ट में अपनी शतकीय पारी (96 गेंदों में 108 रन, 7 छक्के, 8 चौके) के दौरान एक ओवर में 26 रन ठोक डाले थे, जो टेस्ट मैच में भारत की ओर से रिकॉर्ड है. उन्होंने कपिल देव को पीछे छोड़ा था, जिन्होंने 27 साल पहले 1990 में एक ओवर में 24 रन ठोंके थे.