Yo Diary

4 साल बाद रक्षाबंधन पर बन रहा है ऐसा शुभ संयोग

भाई-बहन के प्रेम का त्योहार रक्षाबंधन श्रावणी पूर्णिमा 26 अगस्त को मनाया जाएगा. ज्योतिषाचार्य पंडित अरुणेश कुमार शर्मा ने बताया कि पूर्णिमा तिथि शाम 5.26 तक होने से रक्षाबंधन पर्व पूरे दिन मनाया जाएगा. चार साल बाद ऐसा संयोग बन रहा है जब रक्षाबंधन के दिन भद्रा नहीं होगी.

शुभ मुहूर्त

सुबह 7.43 से 9.18 तक चर, सुबह 9.18 से 10.53 तक लाभ, सुबह 10.53 से 12.28 तक अमृत, दोपहर 2.03 से 3.38 तक शुभ, शाम 6.48 से 8.13 तक मुहूर्त रहेगा.

पंचांग के अनुसार पूर्णिमा तिथि 25 अगस्त को दोपहर 3.25 बजे से प्रारंभ हो जाएगी. जो 26 अगस्त को शाम 5.30 तक रहेगी. इस दिन धनिष्ठा नक्षत्र दोपहर 12.35 बजे तक रहेगा.

रक्षाबंधन का मुहूर्त 26 अगस्त को सुबह 7.43 से दोपहर 12.28 बजे तक रहेगा. इसके बाद दोपहर 2 से 4 तक रहेगा. सूर्योदय से तिथि मानने के कारण रात में भी राखी बांधी जा सकेगी.

बीते वर्ष 2017 में रक्षाबंधन त्यौहार भद्रा और ग्रहण होने के कारण शुभ मुहूर्त बहुत सीमित समय के लिए था जबकि श्रावण पूर्णिमा इस बार ग्रहण और भद्रा से मुक्त रहेगी.

रक्षाबंधन पर घनिष्ठा नक्षत्र होने के कारण पंचक अवश्य रहेगा, लेकिन वह रक्षासूत्र के लिए शुभकारक है.