Yo Diary

जेल जाकर टूटता है अमेरिका का सपना, अवैध रूप से प्रवेश के चलते पकड़े जाते हैं भारतीय

वाशिंगटन, प्रेट्र। अमेरिका जाकर बसना इन दिनों पूरी दुनिया में एक हॉट आइडिया है। इसके लिए लोग कुछ भी करने को तैयार रहते हैं। लेकिन, गैर-कानूनी रूप से अमेरिका पहुंचना उनके लिए मुसीबत का सबब बन जाता है। और अमेरिकी जेल पहुंचकर उनका सपना तार-तार हो जाता है। ऐसे लोगों में बड़ी तादाद में भारतीय भी शामिल हैं।

बंटी सिंह (काल्पनिक नाम) जालंधर के एक मध्यवर्गीय परिवार से आता है। उसके पिता पंजाब पुलिस में और माता सामान्य गृहणी हैं। दो साल से ज्यादा हो गए, जब अमेरिका जाने के लिए उसने अपना शहर छोड़ दिया था। कई देशों का सफर करने के बाद आखिरकार वह मैक्सिको सीमा के जरिये अमेरिका पहुंचने में कामयाब तो हो गया, लेकिन यात्रा दस्तावेज के अभाव में उसे हिरासत में ले लिया गया।

पिछले 16 महीनों से वह न्यू मैक्सिको स्थित हिरासत केंद्र में पड़ा हुआ है। वह भारत में हिंदुओं द्वारा सिखों पर अत्याचार का आरोप लगाते हुए अमेरिका में राजनीतिक शरण मांग रहा है, लेकिन, अमेरिकी जजों को समझाने में अब तक नाकाम रहा है। अब उसे वापस भारत भेजने की तैयारी चल रही है।

उसे झांसा देकर अमेरिका भेजने वाला ट्रैवेल एजेंट भी फरार है। उसके परिजनों का कहना है कि वे लोग उसके पीछे अब तक 47 लाख रुपये खर्च कर चुके हैं। इनमें से ज्यादातर हिस्सा ट्रैवेल एजेंट ने लिया और बाकी पैसा उसका मुकदमा लड़ने में खर्च हुआ।

नॉर्थ अमेरिकन पंजाबी एसोसिएशन के सदस्य सतनाम सिंह चहल के मुताबिक, इस समय हजारों भारतीय अमेरिकी जेलों में बंद हैं। उनमें सबसे ज्यादा संख्या पंजाब से आए लोगों की है।