Yo Diary

फाइलों में 2 साल से मृत बुजुर्ग 2 घंटे में हुए जिंदा

वरिष्ठ संवाददाता, नोएडा नोएडा अथॉरिटी ने गुरुवार को ऑफिस खुलते ही दो साल से फाइलों में मृत खजान सिंह (86) को मात्र दो घंटे में जिंदा कर दिया। अथॉरिटी ने अपनी गलती मानी है कि यह स्टाफ की भूल है। संबंधित स्टाफ ने अपनी ड्यूटी के प्रति लापरवाही न की होती तो यह भूल सप्ताह भर में ठीक हो सकती थी। एनबीटी ने गुरुवार के अंक में पीड़ित की फरियाद '...साहब मैं जिंदा हूं, मैं ही खजान सिंह हूं, आपके सामने खड़ा हूं' शीर्षक के साथ प्रमुखता से छापा था।इसके बाद अथॉरिटी ने ऐक्शन लिया है और 12 बजे तक फाइलों में उन्हें जिंदा कर दिया गया।

क्या है मामला

सदरपुर में रहने वाले खजान सिंह (86) सुप्रीम कोर्ट से जमीन के मुआवजे का केस जीतने के बाद जब अथॉरिटी में अपना हक पाने के लिए पहुंचे तो पता चला कि अथॉरिटी की फाइलों में उनका रिकॉर्ड मृतक के रूप में दर्ज है। अथॉरिटी का करीब 100 चक्कर लगाने और अधिकारियों से गुहार लगाने के बाद भी सुनवाई नहीं हो रही थी। वह खुद के जिंदा होने के सारे सबूत दे चुके थे। फाइलों में दो साल साल पहले मृतक हो चुके खजान सिंह को न तो उनका हक मिल रहा था और न ही वह अपनी प्रॉपर्टी खरीद और बेच पा रहे थे।

फाइल में कैसे हुए मृतक

पड़ताल में पता चला 2013 में 31 लोग सुप्रीम कोर्ट से जमीन के मुआवजे की लड़ाई जीतकर आए थे। 2016 में जब अथॉरिटी ने उनका रिकॉर्ड अपडेट किया तो तत्कालीन तहसीलदार और लेखपाल ने बिना किसी साक्ष्य के उनके रिकॉर्ड में मृतक लिख दिया। हालांकि ऐसा करने के लिए उनकी मंशा पर सवाल भी उठा, लेकिन बताया जा रहा है कि यह अनजाने में हुई भूल भी हो सकती है। इस तरह की गलती अगर हो भी जाए तो गाइडलाइंस के अनुसार मात्र 10-15 में उसे ठीक किया जा सकता है। संबंधित का शपथ पत्र व करंट बैंक स्टेटमेंट का सबूत लेना होता है। कोई शक है तो लेखपाल को भेजकर जांच भी कराई जा सकती है, लेकिन लापरवाह बाबुओं के चक्कर में खजान सिंह को परेशान होना पड़ा। मेरे संज्ञान में यह मामला गुरुवार को ही आया है। संज्ञान में आते ही मैंने दो घंटे में उनकी फाइल में रिकॉर्ड ठीक कर दिया। यह अथॉरिटी के स्टाफ की भूल है और इससे ज्यादा खेद की बात है कि दो साल से वह चक्कर काट रहे हैं। संबंधित लेखपाल पर इस मामले में ऐक्शन के निर्देश दे दिए हैं। हालांकि वह लेखपाल पहले से ही किसी मामले में सस्पेंड चल रहा है लेकिन इस गलती को भी उनकी चार्जशीट में शामिल किया