Yo Diary

स्मार्टफोन को सिरहाने के पास रखकर सोना है खतरनाक, हो सकती है कई गंभीर बीमारी

नई दिल्ली (टेक डेस्क) हाल ही में राजस्थान के एक युवक की जान स्मार्टफोन के फटने से चली गई है। युवक ने अपने स्मार्टफोन अपने सिरहाने रखकर सोया था। स्मार्टफोन चार्ज में लगा था और गर्मी की वजह से उसमें ब्लास्ट हो गया। इसके अलावा स्मार्टफोन सिरहाने रखकर सोने से आप कई गंभीर बीमारियों के भी शिकार हो सकते हैं। ब्रिटेन की एक्जिटर यूनिवर्सिटी के एक रिसर्च में यह पाया गया कि मोबाइल से निकलने वाले खतरनाक रेडिएशन की वजह से कैंसर से लेकर इनफर्टिलिटी जैसी बीमारी हो सकती है। आजकल ज्यादातर लोग स्मार्टफोन को अपने सिरहाने लेकर सोते हैं। स्मार्टफोन्स की लत इतनी बढ़ गई है कि लोग सोते-जागते उठते-बैठते स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने लगे हैं।

आपको बता दें कि अंतराष्ट्रीय कैंसर रिसर्च एजेंसी ने स्मार्टफोन से निकलने वाले खतरनाक इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडियशन को संभावित कार्सिनोजन की श्रेणी में शामिल किया है। साथ ही, रिसर्च एजेंसी ने बताया कि स्मार्टफोन का अत्याधिक इस्तेमाल मस्तिष्क और कान में ट्यूमर पनपने की वजह बन सकता है, जिससे कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी हो सकती है।

वर्ष 2014 में प्रकाशित ब्रिटेन के एक्जिटर विश्वविद्याल के अध्ययन में पाया गया कि मोबाइल के निकलने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक विकिरणों से इनफर्टिलिटी भी हो सकती है। ज्यादातर लोग अपने स्मार्टफोन को पैंट की जेब में रखते हैं जिसकी वजह से पुरूषों में इनफर्टिलिटी की समस्या पैदा हो सकती है। वहीं, 2017 में इजरायल की हाइफा यूनिवर्सिटी की ओर से किए गए अध्ययन में यह पाया गया कि सोने से पहले मोबाइल का इस्तेमाल करना भी खतरनाक है।

शोधकर्ताओं के मुताबिक स्मार्टफोन, कम्प्यूटर और टीवी स्क्रीन से निकलने वाली नीली रोशनी की वजह से स्लीप हार्मोन मेलाटोनिन का उत्पादन रूक जाता है। जिसकी वजह से लोगों को इनसोमिया (नींद न आने वाली बीमरी) हो सकती है। इसके अलावा लोगों को सुबह उठने पर थकान, कमजोरी और भारीपन की भी शिकायत हो सकती है। इसके साथ ही मोबाइल फोन के जलने और फटने का भी डर बरकरार रहता है।