Yo Diary

अगले 48 घंटे में और बढ़ेगा ठंड का प्रकोप, करगिल में पारा गिरकर पहुंचा -18.6 डिग्री सेल्सियस

उत्तर भारत समेत कश्मीर घाटी एक बार फिर शीत लहर की चपेट में है। घाटी के ज्यादातर जगहों पर पारा जमाव बिंदु से नीचे चला गया है। प्रदेश में करगिल सबसे ठंडा स्थान रहा जहां न्यूनतम तापमान शून्य से 18.6 डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया।

मौसम विभाग ने अगले 48 घंटे में कश्मीर में भारी बारिश और बर्फबारी की संभावना जताई है। विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार रात को भी बर्फबारी हो सकती है। अधिकारी ने बताया कि अगले 48 घंटों के दौरान मौसम का खराब होने से घाटी का अन्य हिस्सों से संपर्क कट सकता है।

करगिल और लेह सबसे ठंडा

करगिल - 18.6 डिग्री सेल्सियस लेह -14.5 डिग्री सेल्सियस गुलमर्ग -10 डिग्री सेल्सियस पहलगाम -6.8 डिग्री सेल्सियस श्रीनगर -3.2 डिग्री सेल्सियस

हिमाचल प्रदेश में नारंगी चेतावनी जारी

मौसम विभाग ने हिमाचल प्रदेश में 4 से 6 जनवरी तक भारी बर्फबारी और बारिश की नारंगी चेतावनी जारी की है। मौसम विभाग ने कहा कि लाहौल और स्पीति जिले के प्रशासनिक केंद्र केलांग राज्य का सबसे ठंडा स्थान बना हुआ है जहां शुक्रवार सुबह साढ़े आठ बजे तक न्यूनतम तापमान शून्य से 10.8 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। वहीं मनाली में शून्य से नीचे 3.2 डिग्री सेल्सियस, कुफरी और भुंतर में शून्य से एक डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने राज्य में आठ जनवरी से कुछ स्थानों पर वर्षा होने की भी संभावना जताई है। राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने पर्यटकों और आम जनता से आने वाले दिनों में ऊंचाई वाले स्थानों पर जाने से परहेज करने की सलाह दी गई है।

हिमाचल प्रदेश में नारंगी चेतावनी जारी

पंजाब और हरियाणा के ज्यादातर इलाकों में ठंड का प्रकोप शुक्रवार को भी जारी रहा और आदमपुर में न्यूनतम तापमान 1.2 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। जो दोनों राज्यों के भी किसी इलाके का सबसे कम तापमान है। वहीं अमृतसर में न्यूनतम तापमान 4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पठानकोट में भी पारा लुढ़ककर 3.3 डिग्री सेल्सियस तक चला गया है। पंजाब और हरियाणा की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में कड़ाके की ठंड पड़ रही है जहां तापमान गिरकर 5.5 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि शु्क्रवार सुबह धुंध की वजह से अमृतसर, बठिंडा, फरीदकोट, गुरदासपुर, अंबाला, हिसार, करनाल और भिवानी समेत कई इलाकों शहरों में दृष्यता में कमी आई है।