Yo Diary

ओलं​पिक विजेता तैयार करने के लिए 100 करोड़ रुपए खर्च कर रहा स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया

भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) की महानिदेशक नीलम कपूर के अनुसार खेल मंत्रालय ने 'टारगेट ओलंपिक पोडियम स्कीम' (टॉप्स) के तहत 2020 ओलंपिक के लिए खिलाड़ियों की तैयारी के लिए 100 करोड़ रुपए का प्रावधान रखा है। खेल मंत्रालय ने टॉप्स को सितंबर 2014 में शुरू किया था और इसका लक्ष्य ओलंपिक के संभावित पदक विजेताओं को तैयारी के लिए वित्तीय सहायता मुहैया कराना है। नीलम ने पीटीआई से कहा,'हमने 2020 ओलंपिक के लिए लगभग 100 करोड़ रुपए की राशि रखी है। खेल मंत्री ने निर्देश दिया है कि टॉप्स में खिलाड़ियों के लिए कोष की कमी नहीं होनी चाहिए।' उन्होंने कहा, 'टॉप्स के साथ हम समग्र रुख अपनाने का प्रयास करते हैं। हम राष्ट्रीय महासंघ से सलाह मशविरा करते हैं, राष्ट्रीय पर्यवेक्षकों की प्रतिक्रिया लेते हैं और सभी आंकड़ों पर गौर करने के बाद मिशन ओलंपिक सेल अंतिम चयन करता है।'

'टारगेट ओलंपिक पोडियम स्कीम' के बारे में जानें

ओलंपिक 2020 की भारत की तैयारियों को मजबूत करने के लिए सितंबर में टॉप्स सचिवालय भी बनाया गया। टॉप्स के जरिए सरकार 2020 ओलंपिक के संभावित पदक विजेताओं को ही सहायता मुहैया नहीं करा रही बल्कि 2024 और 2028 ओलंपिक खेलों के पदक के दावेदार डिवेलपमेंट समूह के खिलाड़ियों को सहायता देकर भविष्य की प्रतिभाओं की भी मदद कर रही है।राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता निशानेबाज अनीष भानवाला ने कहा, 'टॉप्स में चयन हमें सुरक्षा की भावना देता है और हमारा मनोबल बढ़ता है कि हमारे अंदर अच्छा प्रदर्शन करने की क्षमता है और सरकार हमारा पूरा समर्थन कर रही है। वे खिलाड़ी की जरूरत के अनुसार सभी जरूरी विश्व स्तरीय सुविधा मुहैया कराते हैं जो काफी मददगार होता है।'