Yo Diary

रांची : जेब्रा क्रासिंग के पहले बना स्टॉपर फांदा, तो कटेगा चालान

आज से सुचारू रूप से काम करेगा ई-चालान सिस्टम, अभी 13 चौक-चौराहों पर होगा लागू, तीन स्थानों पर चल रहा है ट्रायल रांची : राजधानी में एक जनवरी से ई-चालान सिस्टम पूरी तरह शुरू हो जायेगा. रेड लाइट होने पर जेब्रा क्राॅसिंग के पहले बने सफेद स्टॉपर लाइन को पार करने पर इसे ट्रैफिक नियम का उल्लंघन माना जायेगा. ऐसा करने पर वाहन चालकों का ई-चालान कटेगा. यह चालान सीधे वाहन चालकों के घर पर भेजा जायेगा और सात दिनों के अंदर उसे जुर्माने की राशि जमा करनी होगी. मुख्य रूप से बिना हेलमेट व सीट बेल्ट, ट्रिपल राइड, रेड सिग्नल जंप करने वालों से जुर्माना वसूला जायेगा.

वर्तमान में यह सिस्टम राजधानी के 16 चौक-चौराहों पर काम कर रहा है. 13 चौक-चौराहों पर इसे पूर्ण रूप से लागू कर दिया गया है जबकि तीन स्थानों पर अभी ट्रायल चल रहा है. यह सिस्टम ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रिकॉगनेशन (एएनपीआर) तथा रेड लाइन वाॅयलेशन डिटेक्शन (अारएलवीडी) कैमरा के माध्यम से काम करेगा. यह जानकारी एसएसपी अनीश गुप्ता व ट्रैफिक एएपी अजीत पीटर डुंगडुंग ने सोमवार को सिटी कंट्रोल रूम में आयोजित प्रेस वार्ता में पत्रकारों को दी. उन्होंने पत्रकारों को इसका डेमो भी दिखाया. हिनू के बाइक चालक एनाउल हक ने अरगोड़ा चौक पर रेड लाइट के समय स्टॉपर लाइन पार कर दिया था, जिस कारण उसका इ-चालान काट दिया गया़

ई-चालान सिस्टम शुरू होने से ट्रैफिक व्यवस्था में होगा सुधार, दुर्घटनाओं में आयेगी कमी : एसएसपी

एसएसपी ने कहा कि ई-चालान से यातायात व्यवस्था में सुधार तो होगा ही, दुर्घटनाओं में भी कमी आयेगी. ट्रैफिक नियम का उल्लंघन करनेवाले चालक को ई-चालान भेजे जाने के बाद यदि उसने सात दिनों के अंदर जुर्माना जमा नहीं किया, तो बाद में रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस भी रद्द किया जा सकता है. ई-चालान लोगों के घर तक पहुंचेगा. इसके लिए रजिस्ट्रेशन के आधार पर एड्रेस और मोबाइल नंबर का पता कर इ-चालन स्पीड पोस्ट से उनके घर तक चालान पहुंचाया जायेगा.

ई-चालान में नियम के उल्लंघन का डिटेल व फोटो भी रहेगा. नियम का उल्लंघन करते ही ई-चालान निकल जायेगा और उसका प्रिंट आउट निकाल कर संबंधित वाहन के मालिक के पास उसे भेज दिया जायेगा. यदि किसी व्यक्ति के वाहन के रजिस्ट्रेशन के समय का एड्रेस व मोबाइल नंबर बदल गया होगा, तो वैसी स्थिति में उस चालान की समीक्षा कर निबंधन के आधार पर उस व्यक्ति का पता लगाया जायेगा़

ट्रैफिक एसपी अजीत पीटर डुंगडुंग ने बताया कि सितंबर, अक्टूबर तथा नवंबर में लगभग तीन करोड़ का चालान काटा गया. ट्रैफिक पुलिस रांची द्वारा हर महीने तीन लाख रुपये राजस्व दिया जाता है. इस संबंध में एसएसपी ने बताया कि ई-चालान से राजस्व में भी वृद्धि होगी. मुख्यमंत्री का निर्देश है कि हर चीज में पारदर्शिता होनी चाहिए, ऐसे में इस सिस्टम के चालू होने से भ्रष्टाचार पर भी लगाम लगेगा़

एक जनवरी से जेल चौक, अरगोड़ा चौक, सर्जना चौक, सुजाता चौक, करम टोली चौक, सहजानंद चौक, हिनू चौक, कचहरी चौक, बूटी मोड़ चौक, रातू रोड चौक, एजी मोड़ चौक, सिरम टोली चौक, लालपुर चौक पर ई-चालान सिस्टम काम करना शुरू कर देगा. जबकि बिरसा चौक, कांके रोड के राम मंदिर चौक व चांदनी चौक पर इसका ट्रायल चल रहा है़ एसएसपी ने बताया कि फेस रिकॉगनेशन सिस्टम (एफआरएस) कैमरा भी राजधानी के भीड़-भाड़ वाले इलाके जैसे हटिया, रांची रेलवे स्टेशन, सभी बस स्टैंड विभिन्न अस्पतालों में लगाये गये हैं. इस कैमरा से चेहरा एकदम साफ नजर आता है. इन स्थानों पर माओवादी, उग्रवादी व अपराधी को पकड़ने में एफआरएस कैमरा से आसानी होगी और अपराध पर लगाम लगाने में यह कैमरा काफी सहायक होगा़ एसएसपी ने बताया कि राजधानी के सीमा पर भी एफआरएस कैमरे लगाये गये हैं. किसी वाहन से अपराध कर तथा बाइक चोरी कर राजधानी से बाहर निकलने वाले अपराधी की पहचान भी इस कैमरा से हो जायेगी. यह कैमरा तुपुदाना, रिंग रोड, बोड़ेया रोड, ओरमांझी, इटकी रोड, पलामू जानेवाली सड़क की सीमा पर लगायी गयी है. इसके अलावा इस कैमरे में यह भी िवशेषता है कि एक बार किसी अपरा