Yo Diary

झारखंड : सीनेट की बैठक नहीं होने से क्षुब्ध विधायक किशोर ने दिया इस्तीफा

रांची :बिरसा कृषि विश्वविद्यालय में पिछले एक साल से सीनेट की बैठक नहीं हुई है. इससे क्षुब्ध होकर विधायक राधा कृष्ण किशोर ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है.

इसको लेकर श्री किशोर ने बीएयू के कुल सचिव एन कुदादा को पत्र भेज दिया है. इसकी प्रतिलिपि राज्यपाल के प्रधान सचिव व झारखंड विधानसभा के अध्यक्ष को भी भेजी गयी है. झारखंड विधानसभा सचिवालय ने नौ मार्च 2015 को राधा कृष्ण किशोर समेत सात विधायकों को बीएयू का सीनेट सदस्य मनोनीत किया था. इसमें विधायक रवींद्र नाथ महतो, रघुनंदन मंडल, जय प्रकाश सिंह भोक्ता, निरल पूर्ति, नवीन जायसवाल, राधा कृष्ण किशोर व डॉ जीतू चरण राम शामिल थे.

श्री किशोर ने अपने पत्र में कहा है कि सीनेट के तीन वर्षों का कार्यकाल समाप्त होने जा रहा है, लेकिन अभी तक एक भी बैठक आयोजित नहीं की गयी है. उन्होंने कहा है कि मुझे भी बीएयू द्वारा कृषि क्षेत्र में प्रगति के लिए किये जा रहे कार्य, इसके वित्तीय प्रबंधन व बजटीय प्रावधान के बारे में जानने की जिज्ञासा थी, परंतु बैठक नहीं होने से मैं अपने विचार रख पाने से वंचित रहा. गौरतलब है कि बीएयू ने विधानसभा सचिवालय को पत्र लिख कर सीनेट सदस्यों के लिए विधायकों के नाम की सूची मांगी थी.

इसके बाद सीनेट सदस्यों की अधिसूचना जारी की गयी. उन्होंने कहा कि जब तीन वर्ष में सीनेट की बैठक ही नहीं हुई, तो सदस्य मनोनीत करने का क्या औचित्य था. मुझे प्रतीत हो रहा है कि बैठक नहीं बुला कर विश्वविद्यालय प्रबंधन द्वारा विधानसभा की गरिमा को धूमिल की गयी है.