Yo Diary

RANCHI : सीमा पर शहीद झारखंड के लाल रंजीत खलखो के परिजनों को 10 लाख रुपये देगी रघुवर सरकार

रांची : झारखंड का लाल रंजीत खलखो जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकवादियों से 48 घंटे तक लोहा लेते हुए शहीद हो गया. रांची जिले के मांडर के बुड़ाखुखरा के इस वीर का पार्थिव शरीर शुक्रवार को दोपहर दो बजे रांची आ सकता है. रघुवर दास सरकार ने शहीद जवान के परिजनों को 10 लाख रुपये देने का एलान किया है. मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि रंजीत खलखो की शहाद पर पूरे झारखंड को गर्व है. पांच भाई-बहनों में रंजीत सबसे बड़े थे. उनके पिता भी फौज में थे, जिनकी पिछले दिनों मौत हो गयी. रंजीत की तीन बहनें और एक छोटा भाई है. भाई घर पर ही रहता है.

जैसे ही रंजीत के शहीद होने की खबर आयी, पूरे इलाके में शोक की लहर दौड़ गयी. हालांकि, रंजीत की मां को उनके बेटे के शहीद होने की जानकारी नहीं दी गयी है. यहां बताना प्रासंगिक होगा कि उत्तरी कश्मीर में कुपवाड़ा के घने जंगलों में करीब 48 घंटे तक चली मुठभेड़ में सेना के तीन जवान तथा दो पुलिसकर्मियों सहित पांच सुरक्षाकर्मी शहीद हो गये. इस दौरान जवानों ने पांच आतंकवादियों को मार गिराया.

जम्मू-कश्मीर पुलिस के मुताबिक, एक पुलिस दल ने आतंकवादियों के एक समूह को रोका, तो नियंत्रण रेखा से करीब आठ किलोमीटर दूर हलमतपुरा क्षेत्र में मुठभेड़ शुरू हो गयी. कुपवाड़ा पुलिस और सेना, प्रांतीय सेना और सीआरपीएफ की संयुक्त टीम ने अभियान चलाया. इसी दौरान मुठभेड़ में रंजीत खलखो समेत 5 जवान शहीद हो गये.