Yo Diary

रांची: रिम्स में कार्यकर्ताओं की गहमागहमी, तेजस्वी ने कहा, नीतीश को जनता ने विकास के लिए चुना, विनाश

रांची : रिम्स में रविवार को लालू से मिलने के बाद उनके छोटे बेटे तेजस्वी ने कहा कि अस्पताल में सुविधा बढ़ाने की जरूरत है. यहां जेल से भी ज्यादा सुरक्षा बढ़ा दी गयी है. लोगों को मिलने नहीं दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि पिता हार्ट के मरीज है़ं उन्हें विशेष देखरेख की जरूरत है. पारिवारिक चिकित्सक को उनसे मिलने दिया जाना चाहिए. उन्हें बीमारी को लेकर विशेष जानकारी है. श्री तेजस्वी ने कहा कि उपचुनाव का परिणाम अच्छा आया है़ भाजपा घबरा गयी है. बिहार में नीतीश कुमार को विकास और काम करने के लिए चुना गया था, लेकिन वह विनाश और दंगा करा रहे हैं. उन्होंने कहा कि सीबीआइ को रेलवे में जांच के दौरान कोई सबूत नहीं मिला, लेकिन लालू प्रसाद पर केस दर्ज किया गया है. लालू और उनके परिवार को केंद्र सरकार परेशान कर रही है.

ज्ञात हो कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद रिम्स में इलाज करा रहे हैं. रविवार को बिहार-झारखंड से सैकड़ों नेता लालू का हाल-चाल जानने रिम्स पहुंचे़ लालू से मिलने उनके बड़े बेटे तेज प्रताप, शिवानंद तिवारी, भोला यादव, प्रदेश अध्यक्ष अन्नपूर्णा देवी, डॉ मनोज कुमार, रामकुमार, संजय कुमार, मनोज कुमार राय, प्रवीण आदि नेता रिम्स पहुंचे थे़ वहीं राजद के वरिष्ठ नेता रघुवंश सिंह लगातार रांची में कैंप कर रहे हैं कार्डियोलॉजी विंग में राजद कार्यकर्ताओं की गहमागहमी रांची : रिम्स के कार्डियोलॉजी विंग के दूसरे तल्ले पर लालू यादव के भर्ती होने के बाद राजद कार्यकर्ताओं की भीड़ बढ़ गयी है. रविवार को शांत रहने वाले कार्डियोलाॅजी विंग में झारखंड-बिहार से आये राजद कार्यकर्ताओं की चहलकदमी रही. हालांकि, कार्डियोलॉजी विंग में जाने वाले हर प्रवेश द्वार पर सुरक्षाकर्मियों की तैनाती है.

हर व्यक्ति से पूछताछ करने के बाद ही प्रवेश मिल रहा है. परिजनों के अलावा किसी को भी नहीं जाने दिया जा रहा है.कार्डियोलॉजी विंग में यूरोलॉजी, कार्डियोलॉजी व पीडियेट्रिक्स सर्जरी विंग में भर्ती मरीजों के परिजनों को पास जारी किया गया है. पास दिखाने के बाद ही परिजनों को प्रवेश मिल रहा है. विधायक व कार्यकर्ता निराश होकर लौटे : लालू से मिलने के लिए सुबह से ही राजद कार्यकर्ताओं की भीड़ लग गयी थी. झारखंड व बिहार के विभिन्न जिलों से अाये विधायक व विधायक प्रत्याशी लालू से मिलने आये, लेकिन किसी को मिलने नहीं दिया गया. आरा के एक विधायक लालू से मिलना चाह रहे थे. उन्होंने अपने एक कार्यकर्ता को अनुमति लेने के लिए भेजा, लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें लौटा दिया.