Yo Diary

झारखंड निकाय चुनाव : प्रमाण पत्र बनाने में जुटे प्रत्याशी, नामांकन दाखिल करने के लिए करनी होगी तैयार

रांची :राज्य में नगर निकाय चुनाव की सूचना प्रकाशन के साथ ही प्रत्याशियों की रेस शुरू हो जायेगी. चुनावी दंगल में उतरने के लिए प्रत्याशियों को पर्चा भरने की तैयारी करनी होगी. नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 22 मार्च तक है. प्रत्याशी अब प्रमाण पत्र आदि बनाने में जुटे हैं. नोटरी पब्लिक के यहां शपथ पत्र तैयार कराने वालों की भीड़ लगी हुई है. प्रभात खबर प्रत्याशियों की सुविधा के लिए वह जानकारियां मुहैया करा रहा है, जो चुनाव लड़ने में सहायक सिद्ध होगी. 21 साल का पार्षद, 30 साल के होंगे मेयर व अध्यक्ष : नगर निकाय चुनाव लड़ने के लिए प्रत्याशियों की उम्र सीमा निर्धारित की गयी है. पार्षद का चुनाव लड़ने की निर्धारित उम्र 21 वर्ष या उससे अधिक तय की गयी है. वहीं, मेयर या अध्यक्ष के पद के लिए चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी की उम्र 30 वर्ष या उससे अधिक रखी गयी है. निर्धारित आयु से कम का व्यक्ति या महिला चुनाव लड़ने के योग्य नहीं होंगे.

मेयर के लिए पांच हजार, पार्षद के लिए एक हजार होगी जमानत राशि

16 अप्रैल को होनेवाले निकाय चुनाव में सामान्य जाति के उम्मीदवारों को मेयर या अध्यक्ष चुनाव लड़ने के लिए पांच हजार रुपये और वार्ड पार्षद को एक हजार रुपये फीस के रूप में देने होंगे. वहीं, एसटी, एससी, पिछड़ा वर्ग और महिलाओं को इन्हीं पदों पर चुनाव लड़ने के लिए क्रमश: 2,500 और 500 रुपये ही फीस के रूप में चुकाने होंगे. यह फीस जमा कर प्रत्याशी जिला प्रशासन द्वारा बनाये गये निर्वाची अधिकारी से प्रपत्र छह और शपथ पत्रों का प्रारूप (परिशिष्ट आठ) प्राप्त कर सकते हैं.

खोलना होगा नया बैंक खाता

चुनाव में किस्मत आजमाने वाले सभी प्रत्याशियों को बैंक में नया खाता खोलना होगा. नामांकन दाखिल करने के एक दिन पूर्व तक बैंक में नया खाता खोलना अनिवार्य घोषित किया गया है. उस नये बैंक खाते से ही चुनाव प्रचार से चुनाव संबंधित अन्य कार्यों के लिए प्रत्याशी को खर्च करना होगा. चुनाव से संबंधित किसी तरह की आय का ब्योरा भी इस खाते के माध्यम से प्रत्याशी को देना होगा.

नौ फरवरी 2013 के बाद तीसरे बच्चे को जन्म देनेवाले नहीं लड़ सकेंगे चुनाव

नौ फरवरी 2013 के बाद तीसरे बच्चे को जन्म देनेवाले माता-पिता को निकाय चुनाव लड़ने से प्रतिबंधित किया गया है. हालांकि, इस तिथि के पूर्व तीन या उससे ज्यादा बच्चों के माता-पिता बन चुके लोगों को इस प्रतिबंध से कोई फर्क नहीं पड़ेगा. वे चुनाव में किस्मत आजमा सकेंगे. संबंधित कानून नौ फरवरी 2012 को लागू किया गया था. कानून लागू करने की तिथि से एक वर्ष के बीच तीसरे शिशु को जन्म देनेवाले भी चुनाव लड़ सकेंगे. नामांकन दाखिल करते समय बच्चों की संख्या और जन्मतिथि से संबंधित शपथ पत्र भी दाखिल करना पड़ेगा. चुकाना होगा बकाया प्रत्याशियों को निकाय का पूरा ब्योरा चुकाना होगा. होल्डिंग व वाटर टैक्स के लिए निकाय से एनओसी हासिल कर जमा करना होगा. इसके अलावा प्रत्याशी को लंबित अपराधी मामलों, चल-अचल संपत्ति का ब्योरा, दायित्व और शैक्षणिक ब्योरा भी शपथ पत्र के रूप में देना होगा.

नौ फरवरी 2013 के बाद तीसरे बच्चे को जन्म देनेवाले नहीं लड़ सकेंगे चुनाव

सामान्य जाति के प्रत्याशियों को नामांकन पत्र के साथ जमानत राशि (मेयर के लिए 5,000 व पार्षद के लिए 1000 रुपये) से संबंधित प्रमाण-पत्र देना होगा एसटी, एसटी, ओबीसी और महिलाओं को जमानत राशि के रूप में फीस (मेयर के लिए 2500 व पार्षद के लिए 500 रुपये) जमा करने का प्रमाण पत्र जमा करना होगा वोटर लिस्ट में स्वयं, प्रस्तावकों के नाम और नंबर से संबंधित हिस्से की अभिप्रमाणित प्रति देनी होगी चुनाव के लिए आयोग द्वारा निर्धारित सिंबल में मनपसंद तीन सिंबल का ब्योरा देना होगा नामांकन पत्र के साथ आपराधिक मामलों के सिलसिले में शपथ-पत्र देना होगा इसमें कांड संख्या, मुकदमे की स्थिति का विस्तृत ब्योरा होना चाहिए आपराधिक मामला नहीं होने पर शपथ पत्र में यह लिखना होगा कि कोई कांड दर्ज नहीं है देना होगा पत्नी और बच्चों की भी चल-अचल संपत्ति का ब्योरा बैंक खाता और गैर बैंकिंग कंपनी में जमा राशि का ब्योरा बांड, डिबेंचर, शेयर में निवेश का ब्योरा बीमा, एनएससी आदि का ब्योरा वाहनों की संख्या और कीमत जेवरात और उसकी कीमत कृषि योग्य जमीन का ब्योरा और उसकी कीमत गैर-कृषि योग्य जमीन का ब्योरा और