Yo Diary

पलामू के युवक की गुमला में अपहरण के बाद हत्या

गुमला : पलामू जिला के चैनपुर प्रखंड स्थित भैखा गांव के अपह्रत रंजय कुमार चौरसिया की अपराधियों ने गुमला में हत्या कर दी. पुलिस ने उसका शव बिशुनपुर थाना के चिरोडीह पंचायत स्थित रोपाकोना गांव के समीप खूंटी टाड ढोड़हा से बरामद की है.

बुरी तरह पिटाई करने के बाद रंजय की हत्या कर उसके शव को 15 फीट गड्ढे में फेंक दिया गया था. रंजय का 24 फरवरी को अपराधियों ने अपहरण कर लिया था. वह अपने साथियों के साथ खाट बेचने बिशुनपुर आया था. खाट बेचते हुए वह रोपाकोना गांव गया था. जहां से वह गायब हो गया था. रंजय के गायब होने के बाद उसके दोस्त दीनानाथ प्रसाद ने थाने में केस किया. पुलिस रंजय की तलाश कर ही रही थी कि बुधवार को रोपाकोना गांव में झांगुर गुट का सदस्य अनिल उरांव जो वरदी पहनकर घूम रहा था. उसे पकड़ा.

अनिल को पकड़ने के बाद उसने रंजय के अपहरण कर हत्या करने की जानकारी दी. अनिल के निशानदेही पर पुलिस ने शव बरामद की और अनिल को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस के अनुसार झांगुर गुट को लगा कि रंजय भाकपा माओवादी या जेजेएमपी का सदस्य है. इसी संदेह में उसकी हत्या कर दी. इधर, परिजनों ने बताया कि रंजय होली पर्व को लेकर अपने परिवार के लिए नया कपड़ा खरीदने के मकसद से खाट बेचने निकला था.

* खाट बेचने निकला था रंजय

पलामू जिला के रंजय कुमार चौरसिया होली पर्व में अपने परिवार के लिए कपड़ा खरीदने के मकसद से खाट बेचने निकला था. उसने अपनी पत्नी से कहा था कि खाट बेचकर जो पैसा आयेगा. उससे परिवार व बच्चों के लिए नया कपड़ा खरीदेंगे. लेकिन अपराधियों ने गरीब की जान ले ली और परिवार का जीने का सहारा छिन लिया. मृतक रंजय के दोस्त मनोज कुमार प्रसाद ने बताया कि हम लोग अपने बच्चों एवं परिवार के लिए होली में नये कपड़े एवं त्योहार को हर्ष और उल्लास के साथ मना सके. जिसके चलते हम लोग खाट मंगाकर लोहरदगा में रखकर अलग-अलग जिला के विभिन्न गांव में घूमकर खाट बेचकर कुछ पैसा कमा सके.

* खाट बेचने निकला था रंजय

वह 23 फरवरी को बिशुनपुर आया था और सारा खटिया बेचकर गया था. इसके बाद 24 फरवरी को बिशुनपुर आने से पूर्व उसने कहा था कि वहां खटिया खूब बिकता है. मैं बिशुनपुर जा रहा हूं. जिसके बाद वह लौटकर नहीं आया और उसका शव मिला.