Yo Diary

झारखंड : समाज को तोड़ने की साजिश है पत्थलगड़ी: शुक्ला

जमशेदपुर :अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद झारखंड के 18वें प्रांतीय अधिवेशन के दौरान शिक्षण संस्थानों में शिक्षकों की नियुक्ति का मुद्दा उठा. बिष्टुपुर स्थित तुलसी भवन में आयोजित अधिवेशन के समापन सत्र पर मंगलवार को युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने का प्रस्ताव पारित किया गया.

सरकार से मांग की गयी कि युवाओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं रोजगार दिलाने के लिए प्रयास करे. अधिवेशन में पूरे राज्य से 600 से अधिक परिषद के सदस्य शामिल हुए. अधिवेशन को संबोधित करते हुए प्रांत संगठन मंत्री यज्ञवल्क्य शुक्ल ने कहा कि कुछ लोग राजनीतिक फायदे के लिए पत्थलगाड़ी जैसे कृत्यों से देश व समाज को तोड़ने का कार्य कर रहे हैं.

पत्थलगड़ी झारखंडी समाज की एक श्रेष्ठ परंपरा है. उसकी आड़ में समाज को तोड़ने की कोशिश की जा रही है. इसके लिए राज्य के कई हिस्सों में शिक्षण संस्थानों को चुना जा रहा है. परिषद के कार्यकर्ता इसका जवाब देंगे. परिषद के प्रदेश अध्यक्ष डॉ पंकज कुमार ने कहा कि हम युवाओं पर एक सुनहरे भारत की तस्वीर गढ़ने की जिम्मेदारी है. प्रदेश मंत्री रोशन सिंह ने कहा कि यह अधिवेशन परिषद का वैचारिक उत्सव है. मौके पर संकल्प लिया कि परिषद के कार्यकर्ता देशविरोधी विचारधारा को उखाड़ फेकेंगे.

ये प्रस्ताव हुए पारित : राज्य में भौगोलिक व जलवायु की स्थिति के अनुरूप उद्योग व परंपरागत स्किल को बढ़ावा देने, स्थानीय नीति में राज्य के मूलनिवासियों की जनभावनाओं को ध्यान में रखकर फैसले लेने से संबंधित प्रस्ताव पारित किया गया. झारखंड सरकार के न्यू इंडिया, न्यू झारखंड के संकल्प का स्वागत किया गया.

रांची विश्वविद्यालय : डॉ महाराज सिंह कोल्हान विश्वविद्यालय : डॉ सविता मिश्रा एसकेएम विवि दुमका : डॉ राजकिशोर सिंह विनोवा भावे विवि हजारीबाग : डॉ सुभाष कुमार नीलांबर पीतांबर विवि पलामू : प्रो एसएस मिश्र कोयलांचल विवि धनबाद : डॉ ओपी सिन्हा