Yo Diary


The Quotes are powered by Investing.com India

1 डॉलर की सैलरी लेने के बावजूद 4 लाख करोड़ हुई मार्क जकरबर्ग की संपत्ति, जानिए कैसे

वॉशिंग्टन। फोर्ब्स मैगजीन ने साल 2018 की दुनिया के सबसे अमीर लोगों की लिस्ट जारी कर दी है। इस लिस्ट में अमेजन के फांउडर जेफ बेजोस पहले नंबर पर हैं। उन्होंने कई सालों तक दुनिया के सबसे अमीर शख्स रहे माइक्रोसॉफ्ट के फाउंडर बिल गेट्स को भी पछाड़ दिया है। इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर बिल गेट्स, तीसरे पर वारेन बफेट, चौथे पर बर्नार्ड अर्नॉल्ट और पांचवे नंबर पर मार्क जकरबर्ग हैं। मार्क जकरबर्ग केवल 1 डॉलर की सैलरी लेते हैं, इसके बावजूद वो दुनिया के पांचवे सबसे अमीर शख्स हैं। जानिए कैसे-

जकरबर्ग के पास है 4.61 लाख करोड़ की संपत्ति

फोर्ब्स ने हाल ही में दुनिया के सबसे अमीर लोगों की लिस्ट जारी की है। इस लिस्ट में अमेजन के फाउंडर जेफ बेजोस जहां पहले नंबर पर हैं, वहीं फेसबुक सीईओ मार्क जकरबर्ग को पांचवा स्थान मिला है। फोर्ब्स के अनुसार 1 डॉलर की सैलरी लेने वाले मार्क जकरबर्ग की कुल संपत्ति 4.61 लाख करोड़ रुपये है। जकरबर्ग ने साल 2013 में अपनी सैलरी 1 डॉलर लेने की घोषणा की थी।

1 डॉलर की सैलरी लेने के बाद है इतना पैसा

यानी साल 2013 से वो प्रतिमाह केवल 1 डॉलर की सैलरी ले रहे हैं, बावजूद इसके आज उनकी संपत्ति 4 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा है। फेसबुक सीईओ की कमाई सैलरी से नहीं, बल्कि कंपनी के बिजनेस से होती है। कंपनी जितना अच्छा बिजनेस करेगी, जकरबर्ग को उतना फायदा होगा। ये फायदा उन्हें बोनस के रूप में मिलता है।

बोनस से होती है मार्क जकरबर्ग की कमाई

किसी भी कंपनी के अच्छे प्रदर्शन पर कर्मचारियों को बोनस मिलता है। फेसबुक में भी ऐसा ही है। ये बोनस कंपनी के सीईओ मार्क जकरबर्ग को भी मिलता है। अगर कंपनी ने अच्छा प्रदर्शन किया है तो उन्हें भी बोनस मिलेगा और खराब किया है तो उनके बोनस पर भी असर पड़ेगा। फेसबुक का प्रदर्शन पिछले कुछ सालों में अच्छा ही हुआ है और इससे कंपनी को काफी फायदा हुआ।

बोनस से होती है मार्क जकरबर्ग की कमाई

ऐसे में कर्मचारियों सहित सीईओ जकरबर्ग को भी अच्छा बोनस मिला है। जकरबर्ग की 4.61 लाख करोड़ की सैलरी के पीछे यही मोटा बोनस है। इसके अलावा उनके फेसबुक में 27 बिलियन डॉलर के शेयर्स भी हैं। वैसे अमेरिका में 1 डॉलर सैलरी लेने का चलन काफी पुराना है। कई कंपनियों के प्रमुख सैलरी के तौर पर केवल 1 डॉलर लेते हैं। टेस्ला के फाउंडर एलन मस्क, गूगल के फाउंडर लैरी पेज और ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी भी हैं।