Yo Diary


The Quotes are powered by Investing.com India

पहले तेल, अब गैस: भारत ने अमेरिका से एलएनजी आयात शुरू किया

नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। कच्चे तेल के बाद अब भारत ने अमेरिका से प्राकृतिक गैस का आयात शुरू कर दिया है। 20 साल के समझौते के तहत लुइसियाना (मेक्सिको की खाड़ी पर दक्षिण अमेरिका का एक राज्य) से एलएनजी के पहले शिपमेंट को हरी झंडी दिखाई गई।

सरकारी गैस कंपनी गेल इंडिया ने लुइसियाना के चेनिएयर एनर्जी की सबाइन पास लिक्विफिकेशन फैसिलिटी से सालाना 3.5 मिलियन टन लिक्विफाइड नेचुरल गैस (एलएनजी) के लिए करार किया है। गेल की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया, “कार्गो को गेल के पहला चार्टर्ड एलएनजी जहाज 'मेरिडियन स्पिरिट' पर लोड कर दिया गया है। यह एलएनजी कार्गो सबाइन पास एलएनजी प्रोजेक्ट चेनिएयर एनर्जी एलएनजी एक्सपोर्ट फैसिलिटी से संबंधित। यह कार्गो इस महीने की 28 तारीख या उसके आसपास गेल (महाराष्ट्र में) के दाभोल टर्मिनल में एलएनजी को अनलोड (डिस्चार्ज) करेगा।”

पिछले साल अक्टूबर में भारत ने अमेरिका से पहले शिपमेंट के जरिए क्रूड ऑयल का आयात किया था। इससे पहले अमेरिका ने 1975 के बाद से तेल के निर्यात पर रोक लगा रखी थी, इस प्रतिबंध को बराक ओबामा ने साल 2015 ने हटा दिया था। गेल ने दिसंबर 2011 में अमेरिकी एलएनजी निर्यातक चेनिएयर एनर्जी के साथ एक बिक्री और खरीद समझौते (एसपीए) पर हस्ताक्षर किए थे। यह सौदा 1 मार्च से प्रभावी हुआ है। इस सौदे के मुताबिक चेनिएयर गेल को हर साल 3.5 मिलियन टन एलएनजी की बिक्री और उपलब्धता सुनिश्चित करेगा।