Yo Diary


The Quotes are powered by Investing.com India

शेयर बाजार में गिरावट: निवेश से जुड़े आपके सवाल और एक्सपर्ट के जवाब

नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। सोमवार को भारतीय शेयर बाजार गिरावट के साथ कारोबार कर बंद हुए हैं। इस दौरान सेंसेक्स करीब 300 अंक और निफ्टी 100 अंक की कमजोरी के साथ कारोबार कर बंद हुआ। ऐसे में एस्कॉर्ट सिक्योरिटी हेड रिसर्च आसिफ इकबाल से बातचीत के दौरान हमने उन सवालों के जवाब जानने की कोशिश की है जो वर्तमान समय में तमाम निवेशकों के मन में चल रहे हैं।

शेयर बाजार की गिरावट कहां तक जारी रहेगी?

आसिफ इकबाल का मानना है कि भारतीय शेयर बाजार में गिरावट अभी जारी रह सकती है। निफ्टी का सपोर्ट लेवल 10150 का माना जा सकता है। अगर निफ्टी 10,000 का लेवल तोड़ता है तो यह 9500 का स्तर छू सकता है। वहीं, सेंसेक्स में मौजूदा स्तर से 300 से 400 अंक का करेक्शन देखने को मिल सकता है।

बाजार में इस गिरावट के क्या बड़े कारण हैं?

भारतीय शेयर बाजार में गिरावट के कारण की बात करें तो वो बजट में जो लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन (LTCG) के प्रावधान की घोषणा की गई है उसे माना जा सकता है क्योंकि यह बाजार के लिहाज से नकारात्मक हैं। वहीं दूसरा कारण 14 फरवरी को 12700 करोड़ रुपये के पीएनबी घोटाले का उजागर होना और तीसरा कारण अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की ओर से स्टील और एल्युमीनियम पर आयात शुल्क लगाने की घोषणा को माना जा रहा है।

जिन शेयर्स में गिरावट देखने को मिल रही है क्या निवेशकों को नुकसान लेकर बाजार से निकल जाना चाहिए या फ

आसिफ का मानना है कि अगर बाजार में बाउंस बैक नहीं होता तो निवेशकों को नुकसान लेकर बाजार से निकल जाना चाहिए। वहीं वे निवेश करना चाहते हैं तो बुनियादी रूप से मजबूत कंपनियां बाजार में निवेशकों को अवसर दे सकती हैं। घरेलू बाजार में फंडामेंटली मजबूत कंपनियों में इस समय निवेश किया जा सकता है। ये वो कंपनियां हो सकती हैं जिनमें मांग देखने को मिल रही है।

जिन शेयर्स में गिरावट देखने को मिल रही है क्या निवेशकों को नुकसान लेकर बाजार से निकल जाना चाहिए या फ

अगर बाजार की इस गिरावट में खरीदारी करना चाहते हैं तो ऐसे सेक्टर में करें जो फंडामेंटली (बुनियादी रूप से) मजबूत हैं। उपभोक्ता विवेकाधीन (कंज्यूमर डिस्क्रीशनरी) सेक्टर्स में खरीदारी की जा सकती है। मौजूदा स्थिति को देखते हुए निवेशकों को मेटल और बैंकिंग शेयर्स से बचना चाहिए। साथ ही हो सके तो फिलहाल ऑटो सेक्टर से भी दूर रहें।

इस गिरावट में सबसे ज्यादा नुकसान कौन से सेक्टर्स में हुआ?:-इस गिरावट में सबसे ज्यादा नुकसान मेटल और बैंकिंस सेक्टर में ही देखने को मिला है। डोनोल्ड ट्रम्प की ओर से गुरुवार को स्टील और एल्युमीनियम पर आयात शुल्क लगाने के एलान से यह गिरावट देखने को मिल रही है।