Yo Diary


The Quotes are powered by Investing.com India

Airtel यूजर्स के लिए बड़ी खुशखबरी, फ्लाइट में मिलेगा नॉन स्टॉप हाईस्पीड इंटरनेट

नई दिल्ली: देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी एयरटेल ने बड़ा ऐलान किया है. कंपनी अब अपने यूजर्स को घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में हाईस्पीड इंटरनेट डाटा कनेक्टिविटी देगी. इस सुविधा के लिए एयरटेल ने एक वैश्विक समूह 'सिमलेस एलायंस' के साथ करार किया है. एयरटेल ने कहा है कि उसके यूजर्स को अब फ्लाइट में बिना रुकावट के तेज इंटरनेट मिलेगा. कंपनी ने जारी बयान में कहा कि वैश्विक समूह ‘सिमलेस एलायंस’ में वनवेब, एयरबस, डेल्टा और स्प्रिंट जैसी कंपनियां शामिल हैं. ये सभी मिलकर उड़ान के दौरान भी यूजर्स को तेज स्पीड वाली इंटरनेट सुविधा देने के लिए सैटेलाइट तकनीक का इस्तेमाल करेंगे.

सिमलेस एलायंस में शामिल हुआ एयरटेल

एयरटेल के मुताबिक, 'एयरटेल सिमलेस एलायंस में शामिल हुआ है जो दूरसंचार कंपनियों को विमानों के केबिन तक सेवा देने में सशक्त बना मोबाइल एवं विमानन कंपनियों के लिए नवाचार के नए युग की शुरुआत करेगा.’ इस वैश्विक मुहिम की बार्सिलोना में घोषणा की गई.

एयरलाइंस के साथ नई साझेदारी

बार्सिलोना में आयोजित मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस 2018 के दौरान इसकी घोषणा की गई. सीमलेस एलायंस के 5 फाउंडिंग सदस्यों के अलावा इसमें इडस्ट्री के और भी सदस्यों को जोड़ा जाएगा. सीमलेस एलायंस के सभी सदस्य मिलकर डाटा एक्सेस का इन्फ्रास्ट्रक्चर सुधारने और लागत को कम करने के लिए काम करेंगे. एयरटेल के मुताबिक सीमलेस एलायंस का पार्टनर बनने के बाद मोबाइल ऑपरेटर्स और एयरलाइंस के बीच नई साझेदारी शुरू होगी.

किसे मिलेगा सबसे ज्यादा फायदा

एयरटेल देश का सबसे बड़ा और दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा मोबाइल ऑपरेटर है. एयरटेल की सुविधा का सबसे ज्यादा इस्तेमाल दक्षिण एशिया और अफ्रीका के कई देशों में किया जाता है. इस सुविधा के लागू होने के बाद एयरटेल के लगभग 37 लाख यूजर्स को फ्लाइट में नॉन स्टॉप इंटरनेट की सुविधा मिलेगी

किसे मिलेगा सबसे ज्यादा फायदा

टेलीकॉम रेगुलेटर ट्राई ने कुछ दिन पहले ही घरेलू उड़ानों में मोबाइल कनेक्टिविटी को मंजूरी दी है. जल्द ही इसका पॉयलट प्रोजेक्ट शुरू होगा. भारत पहले सुरक्षा के आधार पर फ्लाइट में इंटरनेट का विरोध करता रहा है. लेकिन, पिछले महीने ट्राई ने भारतीय वायुसीमा में इंटरनेट सुविधाएं देने का एलान किया है. हालांकि, ट्राई ने ये शर्त बरकरार रखी है कि मोबाइल फोन को फ्लाइट मोड में रखने पर ही फ्लाइट में इंटरनेट मिलेगा. साथ ही 3000 मीटर की ऊंचाई पर ही विमान में इंटरनेट चालू किया जाएगा.