Yo Diary


The Quotes are powered by Investing.com India

ग्वार में आएगी तेजी, ऐसे करें कमाई

नई दिल्ली:घरेलू मिलों, निर्यातकों की अच्छी मांग और सप्लाई में कमी से ग्वार वायदा में तेजी की उम्मीद है. 15 जनवरी को NCDEX पर ग्वारसीड आधा फीसदी की गिरावट के साथ 4325 रुपये प्रति क्विंटल के आसपास कारोबार कर रहा था, जबकि कमोडिटी एक्सचेंज पर ग्वारगम का फरवरी कॉन्ट्रैक्ट 21 रुपये या 0.24 फीसदी की तेजी के साथ 8595 रुपये प्रति क्विंटल पर था.

राजस्थान में जोधपुर मंडी के व्यापारी दामोदर प्रसाद सारस्वत के मुताबिक, 'मंडियों में ग्वार की आपूर्ति कम है, लेकिन निर्यातकों की मांग अभी भी बनी हुई है और आने वाले महीनों में भी जारी रहने की संभावना है. ग्वार की कीमतें बढ़ने लगी हैं. सारस्वत ने कहा कि प्रमुख तेल और गैस ड्रिलिंग कंपनियों के निर्यातक खरीद की होड़ में हैं. गुजरात के निर्यातक और मिलर्स प्रीमियम का भुगतान भी कर रहे हैं. यह दर्शाता है कि फसल की उपलब्धता कम है. वायदा बाजार में, ग्वार गम का भाव 10,500 रुपये तक पहुंच सकता है.

ब्रोकरेज फर्म इंडीट्रेड डेरेवेटिव्स एवं कमोडिटीज में कमोडिटीज एवं करेंसी रिसर्च हेड हरीश गल्लीपेली का कहना है कि कच्चे तेल में रिकवरी जारी है. इस वजह से ग्वारगम की एक्सपोर्ट मांग बढ़ने का अनुमान है. इसके अलावा इस साल उत्पादन काफी कम है. उनका कहना है कि हाजिर मंडियों में ग्वारसीड की सप्लाई घटी है. इसके अलावा सीजन करीब-करीब खत्म होने वाला है. इसे देखते हुए कीमतों में तेजी के संकेत हैं.

गल्लीपेली के मुताबिक, लंबी अवधि के लिए 4,250 रुपये के आसपास खरीदारी की सलाह है. निवेशकों को 4150 रुपये के भाव पर स्टॉपलॉस रखते हुए फरवरी कॉन्ट्रैक्ट में 4480-4600 रुपये प्रति क्विंटल का लक्ष्य रखना चाहिए.

रेलीगेयर सिक्योरटीज सीनियर मैनेजर (रिसर्च ) अभिजीत बनर्जी के मुताबिक, कच्चे तेल की कीमतों में मजबूती आने से ग्वार की कीमतों में सपोर्ट मिल रहा है. हाजिर बाजार में सप्लाई कम है. इस साल ग्वार का उत्पादन कम रहने का अनुमान है.

नए साल में ग्वार की मांग बढ़ने की संभावना है. 4250-4300 के भाव पर फरवरी वायदा में खरीदारी की सलाह है. निवेशकों को 4150 रुपये के स्तर पर स्टॉपलास रखते हुए जनवरी कॉन्ट्रैक्ट में 4450-4500 रुपये प्रति क्विंटल का स्तर दिख सकता है. भारत ग्वार गम का सबसे बड़ा उत्पादक और निर्यातक है. यह अपने उत्पादन का 90 फीसदी हिस्सा निर्यात करता है.