Yo Diary


The Quotes are powered by Investing.com India

कभी नहीं लगेगा मिनिमम बैलेंस चार्ज, बस याद रखें ये 2 चीजें

आपके ज्यादातर बचत खातों में मिनिमम बैलेंस बनाए रखने की शर्त होती है. जब भी आप इस शर्त को पूरा नहीं करते आपको इसके लिए चार्ज चुकाना पड़ता है. वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान 21 सरकारी बैंकों और तीन निजी बैंकों ने 5 हजार करोड़ रुपये इस चार्ज के तौर पर वसूले हैं.

लेक‍िन आप मिनिमम बैलेंस चार्ज से बच सकते हैं. इसके लिए हम आपको दो चीजें बता रहे हैं. इनमें से एक भी अगर आप ने अपना लिया, तो आप पर मिनिमम बैलेंस चार्ज नहीं लगेगा.

मिनिमम बैलेंस कैल्कुलेट कर लें:

मान लीजिए किसी बैंक में आपके खाते पर 5 हजार रुपये का मिन‍िमम बैलेंस बनाए रखने की शर्त है. मिनिमम बैलेंस का मतलब ये कतई नहीं है कि आपको अपने खाते में हर समय 5 हजार रुपये रखना ही रखना है. हालांक‍ि एक रास्ता ये भी है. मिनिमम बैलेंस मंथली एवरेज बैलेंस होता है. इसका ये अर्थ है कि एक महीने के भीतर आपके खाते में जो भी रकम आती है या फिर जाती है, उसका महीने के अंत में औसत निकाला जाता है.

कैसे बचें:

सबसे आसान तरीका यही है कि आप हर महीने अपने खाते में 5 हजार रुपये की राश‍ि हमेशा बनाए रखें. इससे महीने के अंत में जो मंथली एवरेज निकलेगा, वह 5 हजार ही होगा.

कैसे बचें:

लेक‍िन अगर आप पैसे निकालते और डालते रहते हैं, तो आपको मिन‍िमम बैलेंस निकालने का फॉर्मूला समझना होगा. इसे याद रखते हुए औसत बैलेंस 5 हजार बनाए रखना होगा.