Yo Diary


The Quotes are powered by Investing.com India

इन वेबसाइट से RAILWAY टिकट खरीदना होगा महंगा, जानना है बेहद जरूरी

नई दिल्लीअगर ट्रेन में यात्रा करने के लिए आप अक्सर मेक माई ट्रिप, यात्रा, पेटीएम और क्लियर ट्रिप जैसे पोर्टल से टिकट खरीदते हैं तो यह खबर आपके लिए है. इन वेबसाइट से टिकट बुक कराना अब पहले के मुकाबले महंगा हो सकता है. इंडियन रेलवे एंड कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन (IRCTC) दूसरे पोर्टल के माध्यम से टिकट बुकिंग कराने पर एक्सट्रा चार्ज लगाने का निर्णय लिया है.

12 रुपये और टैक्स अतिरिक्त देना होगा

आईआरसीटीसी की तरफ से कहा गया कि अन्य सर्विस प्रोवाइडर की तरफ से टिकट बुक कराने पर 12 रुपये और इस पर टैक्स भी लगेगा. गौरतलब है कि IRCTC इंडियन रेलवे की सहायक कंपनी है और कैटरिंग, टूरिज्म और ऑनलाइन टिकटिंग ऑपरेशन हैंडल करती है. टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित खबर के अनुसार आईआरसीटी का आईपीओ आने से पहले यह कदम रेवेन्यू जुटाने के तरीके के रूप में देखा जा रहा है.

इस कदम से सर्विस प्रोवाइडर नाखुश

हालांकि आईआरसीटीसी के इस कदम से सर्विस प्रोवाइडर नाखुश हैं. अभी तक IRCTC की तरफ से इन वेबसाइट से सालाना मेंटीनेंस चार्ज लिया जाता था. जिससे ग्राहक पर अतिरिक्त बोझ नहीं पड़ता था. लेकिन अब प्रत्येक टिकट पर अलग से चार्ज लेने पर टिकट की कीमत बढ़ सकती है. आईआरसीटीसी के इस फैसले पर एक सर्विस प्रोवाइडर का कहना है कि रेलवे टिकट बुकिंग रेवेन्यू नेगेटिव है.

सर्विस प्रोवाइडर का कहना है कि पेमेंट गेटवे पर हमें जो शुल्क देनी पड़ती है. वह ग्राहकों से ली जाने वाली फीस से ज्यादा होती है. अगर यह बोझ ग्राहकों पर डाला गया तो टिकट बुकिंग के काम से हमें नुकसान होगा. कंपनियों का कहना है कि फीस बढ़ाने से उन्हें नुकसान होगा और आईआरसीटीसी की वेबसाइट के मुकाबले हम गैर-प्रतिस्पर्धी हो जाएंगे.

इसके अलावा आईआरसीटीसी ने अपने सिस्टम को सर्विस प्रोवाइडर्स के लिए भी खोलने का फैसला किया है. अब सर्विस प्रोवाइडर पीएनआर स्टेटस और अन्य पूछताछ की सेवाएं कस्टमर फैसिलिटीज मुहैया करा सकते हैं. एक अन्य सर्विस प्रवाइडर ने कहा कि एयरलाइंस के साथ आईआरसीटीसी का दूसरे तरह का करार है. एयरलाइंस की टिकट बुकिंग कराने पर आईआरसीटीसी से उन्हें कमीशन मिलता है. वहीं टिकट की बिक्री पर रेलवे हमसे चार्ज वसूलती है.