Yo Diary


The Quotes are powered by Investing.com India

इन तरीकों से कहीं भी उगा सकते हैं बटन मशरूम, एक सीजन में कमा सकते हैं 3 लाख रूपए

लाइव सिटीज डेस्क : अगर खेतीबाड़ी के जरि‍ए अच्छी कमाई करने का तरीका खोज रहे हैं तो बटन मशरूम की खेती एक अच्छा ऑप्शकन हो सकता है. यह मशरूम की ही एक कि‍स्म होती है, मगर इसमें मि‍नरल्स और वि‍टामि‍न खूब होते हैं. इसकी खासि‍यत ये है कि आप एक झोंपड़ी में भी इसकी फायदेमंद खेती कर सकते हैं. मशरूम अपने हेल्थ बेनेफि‍ट्स की वजह से लगातार पॉपुलर हो रही है. फुटकर में इसका रेट 300 से 350 रुपए कि‍लो है.

बड़े शहरों में तो यह इसी रेट में मि‍लता है. थोक का रेट इससे करीब 40% तक कम होता है. कई लोगों ने पारंपरि‍क खेती को छोड़कर मशरूम उगाना शुरू कर दि‍या है और अब अच्छी खासी कमाई कर रहे हैं. जैसे गोरखपुर के कि‍सान राहुल सिंह.

उपज और मुनाफे का गणि‍त

राहुल हर साल 4 से 5 क्विंटल कंपोस्टी बनाकर उसपर बटन मशरूम की खेती करते हैं. इतनी कंपोस्टज पर करीब 2000 कि‍लो मशरूम पैदा हो जाता है. एक क्विंटल कम्पोस्ट में डेढ़ किलो बीज लगते हैं. इसकी बाजार में कीमत 200 से 250 रुपए होती है. मशरूम का थोक रेट 150 से 200 रुपए कि‍लो है. अब 2000 कि‍लो मशरूम अगर 150 रुपए एक कि‍लो के हि‍साब से भी बि‍कती है तो करीब 3 लाख रुपए मि‍लते हैं. इसमें से 50 हजार रुपए लागत के तौर पर नि‍काल दें तो भी ढाई लाख रुपए बचते हैं, हालांकि इसकी लागत 50 हजार से कम ही आती है. प्रति वर्ग मीटर 10 कि‍लोग्राम मशरूम आराम से पैदा हो जाता है.

मशरूम अक्‍टूबर-नवंबर में लगाई जाती है और पूरी सर्दी इसका उत्‍पादन होता रहता है. राहुल करीब 40 बाई 30 फुट की झोंपड़ी में खेती करते हैं. इसमें वह तीन तीन फुट चौड़ी रैक बनाकर मशरूम उगाते हैं. इसके लि‍ए आपको कंपोस्‍ट तैयार करना होता है. आप इस काम के लि‍ए धान की पुआल का यूज कर सकते हैं. सबसे पहले धान की पुआल को भि‍गो दें और एक दि‍न बाद इसमें डीएपी, यूरि‍या, पोटाश व गेहूं का चोकर, जि‍प्‍सम, कैल्‍शि‍यम और कार्बो फ्यूराडन मि‍ला कर सड़ने के लि‍ए छोड़ दें. उसे करीब 30 दि‍न के लि‍ए छोड़ दें. हर 4 से 5 दि‍न पर इसे पलटते रहें और आधा महीना हो जाने पर इसमें नीम की खली और गुड़ का पाक या शीरा मि‍ला दें. एक महीना बीत जाने के बाद एक बार फि‍र से बावि‍स्‍टीन और फार्मोलीन छि‍ड़ने के बाद इसे कि‍सी ति‍रपाल से 6 घंटों के ढक दि‍या जाता है. अब आपका कंपोस्‍ट तैयार हो गया.

पहले नीचे गोबर की खाद और मि‍ट्टी को बराबर मात्रा में मि‍लाकर करीब डेढ़ इंच मोटी परत बि‍छाई जाती है. इसके ऊपर कंपोस्टे की दो से तीन इंच मोची परत चढ़ाएं. इसके ऊपर कंपोस्टट की दो तीन इंच मोटी परत चढ़ाएं और उसके ऊपर मशरूम के बीज समान मात्रा में फैला दें. फि‍र इसके ऊपर एक दो इंच मोटी कंपोस्टच की परत और चढ़ा दें.

झोंपड़ी में नमी का स्तंर बना रहना चाहि‍ए और स्प्रें से मशरूम पर दि‍न में दो से तीन बार छि‍ड़काव होना चाहि‍ए. झोंपड़ी का तापमान 20 डि‍ग्री बना रहे. सभी एग्रीकल्चमर यूनि‍वर्सि‍टी और कृषि अनुसंधान केंद्रों में मशरूम के खेती की ट्रेनिंग दी जाती है. अगर आप इसी बड़े पैमाने पर खेती करने की योजना बना रहे हैं तो बेहतर होगा एक बार इसकी सही ढंग से ट्रेनिंग जरूर लें.