Yo Diary


The Quotes are powered by Investing.com India

Wow! एक हफ्ते में इस देसी कंपनी ने कमाए 42,255 करोड़ रुपये, जानें कैसे बढ़ी कमाई

सेंसेक्स में शामिल शीर्ष 10 कंपनियों में से सात के बाजार पूंजीकरण में बीते सप्ताह 69,917.79 करोड़ रुपये का इजाफा हुआ है। इनमें सबसे अधिक फायदा रिलायंस इंडस्ट्रीज को हुआ और उसका बाजार पूंजीकरण 42,255.18 करोड़ रुपये बढ़ गया। हालांकि, बाजार पूंजीकरण के लिहाज से टीसीएस सबसे आगे रही।

सेंसेक्स को इन कंपनियों से मिला दम

पिछले कारोबारी सप्ताह में सेंसेक्स 554.12 अंक यानी 1.61 प्रतिशत बढ़कर 34,969.70 अंक पर पहुंच गया। शुक्रवार को समाप्त सप्ताह में टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस), रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल), आईटीसी, हिन्दुस्तान यूनिलीवर, एचडीएफसी और कोटक महिंद्रा बैंक की बाजार हैसियत बढ़ी, जबकि एचडीएफसी बैंक, मारुति सुजुकी इंडिया और ओएनजीसी को नुकसान हुआ।

इन कंपनियों ने की बंपर कमाई

सप्ताह के दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज का बाजार पूंजीकरण (एम-कैप) 42,255.18 करोड़ रुपये की बढ़त के साथ 6,30,185.08 करोड़ रुपये हो गया। टीसीएस का बाजार पूंजीकरण 9,265.16 करोड़ बढ़कर 6,61,348.08 करोड़ रुपये और कोटक महिंद्रा बैंक का पूंजीकरण 6,513.29 करोड़ चढ़कर 2,26,510.88 करोड़ रुपये हो गया। । एचडीएफसी की बाजार हैसियत 4,390.79 करोड़ रुपये और आईटीसी की हैसियत 4,027.42 करोड़ रुपये बढ़कर क्रमश: 3,11,352.38 करोड़ रुपये और 3,40,804.94 करोड़ रुपये पर पहुंच गई। हिन्दुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड का बाजार पूंजीकरण 1,958.9 करोड़ बढ़कर 3,19,170.59 करोड़ रुपये एवं इन्फोसिस का पूंजीकरण 1,507.05 करोड़ बढ़कर 2,58,851.82 करोड़ रुपये हो गया।

टीसीएस ने बनाया रिकॉर्ड

सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र की दिग्गज कंपनी टीसीएस का बाजार पूंजीकरण गुरुवार को कारोबार की समाप्ति पर 100 अरब डॉलर के पार हो गया और वह 100 अरब डॉलर के बाजार पूंजीकरण वाली पहली भारतीय कंपनी बन गई। शीर्ष दस कंपनियों की सूची में टीसीएस पहले स्थान पर है। इसके बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक, आईटीसी, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एचडीएफसी, मारुति, इन्फोसिस, ओएनजीसी और कोटक महिंद्रा का स्थान रहा।

टीसीएस ने बनाया रिकॉर्ड

एचडीएफसी बैंक की बाजार हैसियत 9,887.3 करोड़ रुपये घटकर 4,98,996.93 करोड़ रुपये पर आ गई। जबकि मारुति सुजुकी का पूंजीकरण 7,831.42 करोड़ गिरकर 2,65,164.37 करोड़ रुपये और ओएनजीसी का 2,053.31 करोड़ घटकर 2,31,960.73 करोड़ रुपये हो गया।