Yo Diary


The Quotes are powered by Investing.com India

अब इस भारतीय अरबपति ने भी छोड़ा देश, वजह जानकर चौंक जाएंगे आप

नई दिल्‍ली:अरबपतियों के देश छोड़ने का सिलसिला जारी है. अब एक और भारतीय अरबपति ने भारत छोड़ दिया है. पिछले कुछ सालों से लगातार अरबपति देश छोड़ रहे हैं. फाइनेंशियल सर्विसेज फर्म मॉर्गन स्टेनली की रिपोर्ट के मुताबिक, 2014 से लेकर अब तक 23000 भारतीय अरबपति भारत छोड़ चुके हैं. देश छोड़ने वालों की सूची में अब एक और अरबपति का नाम जुड़ा है. इस अरबपति ने भारतीय नागरिकता छोड़कर साइप्रस का नागरिक बनना पसंद किया है. नागरिकता छोड़ने की वजह भी चौंकाने वाली है. शायद ही पहले कभी इस तरह की वजह सामने आई हो.

हीरानंदानी ग्रुप के को-फाउंडर हीरानंदानी ग्रुप के को-फाउंडर

रियल एस्टेट टायकून सुरेंद्र हीरानंदानी अब भारतीय नागरिकता छोड़ चुके हैं. सुरेंद्र हीरानंदानी ग्रुप के को-फाउंडर हैं. सुरेंद्र हीरानंदानी की गिनती रियल एस्टेट के दिग्गजों में होती है. उन्होंने अपने भार्इ निरंजन के साथ अपनी कंपनी को देश की सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनियों में से एक बनाया. 63 साल के इस कारोबारी ने साइप्रस की नागरिकता ली है. आपको बता दें, सुरेंद्र हीरानंदानी बॉलीवुड एक्‍टर अक्षय कुमार के बहनोई भी हैं. अक्षय की बहन अल्का और सुरेंद्र ने 2012 में शादी की थी.

क्‍या है देश छोड़ने की वजह?

सुरेंद्र हीरानंदानी ने भारतीय नागरिकता छोड़ने की जो वजह बताई है वह चौंकाने वाली है. उन्‍होंने कहा, भारतीय पासपोर्ट पर वर्क वीजा मिलने में मुश्किल आती हैं यह एक प्रमुख वजह जिससे यह कदम उठाना पड़ रहा है. हालांकि, टैक्स रेट्स और अन्य चीजों से बिल्कुल समस्या नहीं है. उन्‍होंने यह साफ किया कि उनका बेटा हर्ष भारतीय नागरिक बना रहेगा.

कंस्ट्रक्शन बिजनेस में अब नहीं फायदा

सुरेंद्र हीरानंदानी के भारत छोड़ने की एक वजह भारत में कंस्ट्रक्शन बिजनेस के बिगड़ते हालात भी हैं. उन्‍होंने कहा कि कंस्ट्रक्शन बिजनेस अब उतना फायदेमंद नहीं रहा. प्रॉफिट मार्जिन 10 फीसदी से भी कम रह गया है. वहीं, डेवलपर्स 12 फीसदी की सालाना रेट पर इंटरेस्‍ट लेने पर मजबूर हैं.

कंस्ट्रक्शन बिजनेस में अब नहीं फायदा

फोर्ब्‍स के रियल टाइम नेटवर्थ रिपोर्ट के मुताबिक, सुरेंद्र हीरानंदानी के पास 1.28 बिलियन डॉलर यानी करीब 83 हजार करोड़ रुपए की संपत्ति है. फोर्ब्स की सूची में उन्हें 100 सबसे अमीर भारतीयों में रखा गया है.