Yo Diary


The Quotes are powered by Investing.com India

ट्रेड वॉर का खतरा! चीन के टैरिफ लगाने के बाद अमेरिका ने दी ये नसीहत

बीजिंग : अमेरिका ने अपने यहां के फलों, मांस समेत 3 अरब डॉलर मूल्य की 128 वस्तुओं के आयात पर अतिरिक्त शुल्क लगाए जाने को अनुचित बताते हुए कड़ी निंदा की है. अमेरिका में इस्पात और एल्युमीनियम पर शुल्क लगाने के बाद जवाबी कार्यवाही करते हुए चीन ने यह कदम उठाया है. चीन के सीमा शुल्क आयोग ने इस आशय का निर्णय किया. अमेरिका के आयात शुल्क बढ़ाने के निर्णय के बाद दुनिया की दो बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच व्यापार युद्ध की आशंका जताई जा रही थी. चीन का उक्त कदम उसकी पुष्टि करता है. अमेरिका में व्हाइट हाउस की उप- प्रवक्ता लिंडसे वाल्टर्स ने कहा, 'चीन की सब्सिडी की नीति तथा अत्यधिक क्षमता इस स्थिति का प्रमुख कारण है.'

अनुचित व्यापार गतिविधियों को रोकना होगा

वाल्टर्स ने कहा, निष्पक्ष रूप से होने वाले अमेरिकी निर्यात को निशाना बनाने के बजाय चीन को अपनी अनुचित व्यापार गतिविधियों को रोकना होगा जो अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा को नुकसान पहुंचा रही हैं और वैश्विक बाजार को प्रभावित कर रहे हैं.' ट्रंप प्रशासन ने कहा था कि इस्पात और एल्यूमीनियम आयात पर शुल्क लगाया गया है क्योंकि इसे अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिये खतरा था. वहीं चीन के वाणिज्य मंत्रालय ने इसे विश्व व्यापार संगठन (WTO) के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करार दिया था.

व्यापार घाटे को कम करने के लिये उठाया कदम

ट्रंप ने बार- बार चीन के साथ व्यापार में अधिशेष के मुद्दे को उठाया और चुनाव प्रचार के दौरान अमेरिकी व्यापार घाटे को कम करने के लिये कदम उठाने का वादा किया था. इससे पहले अमेरिका की तरफ से चीनी वस्तुओं के आयात पर शुल्क लगाए जाने के जवाब में चीन ने पोर्क और फलों समेत अमेरिका से आयातित होने वाली 128 वस्तुओं पर शुल्क लगा दिया था. कस्टम्स टैरिफ कमिशन ऑफ द स्टेट काउंसिल ने फलों और अन्य संबंधित 120 उत्पादों पर 15 प्रतिशत और सूअर का मांस (पोर्क) और इससे संबंधित अन्य आठ वस्तुओं पर 25 प्रतिशत शुल्क लगाने का फैसला किया था.

मंत्रालय की वेबसाइट पर जारी बयान के अनुसार स्टील और एल्यूमिनियम उत्पादों पर शुल्क लगाने के अमेरिका के कदम की प्रतिक्रिया के बाद ऐसा किया गया है. दुनियाभर में आपत्ति के बावजूद अमेरिकी प्रशासन ने स्टील के आयात पर 25 प्रतिशत और एल्यूमिनियम उत्पादों पर 10 प्रतिशत कर लगा दिया. बयान के अनुसार अमेरिका के कदम से चीन के हितों को गंभीर नुकसान पहुंचा है. चीन ने बीते 4 मार्च को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर वॉशिंगटन व्यापारिक युद्ध (ट्रेड वॉर) शुरू करता है तो उसे इसका नतीजा भुगतना होगा.