Yo Diary

Offer Price 98/-

LIVE : बिहार उपचुनाव : अररिया में 1 बजे तक 37.87% मतदान, सांसद अरुण कुमार ने कहा- नतीजों से सरकार पर

पटना :बिहार में अररिया लोकसभा, जहानाबाद तथा भभुआ विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव के लिए रविवार सुबह सात बजे से वोटिंग जारी है. जो शाम पांच बजे जारी रहेगा. जानकारी के मुताबिक अररिया, भभुआ और जहानाबाद के बूथों पर लोग कतार में लगकर मतदान कर रहे हैं. मतदान केंद्रों पर महिलाएं भी अपने मत का प्रयोग करने के लिए भारी संख्या में पहुंची है. वहीं भभुआ में एक बूथ पर ईवीएम मशीन खराब होने की खबर आयी, जिसे बाद में ठीक कर लिया गया.

लाइव अपडेट

1:44 PM - बिहार उपचुनाव : अररिया में 1 बजे तक 37.87 प्रतिशत मतदान 1:34 PM - बिहार उपचुनाव : नतीजों पर सांसद अरुण कुमार का बयान, कहा- नतीजों से सरकार पर कोई असर नहीं पड़ेगा, हालांकि एनडीए तीनों सीटों पर जीत दर्ज करेगी 1:03 PM - भभुआ उपचुनाव : बूथ संख्या 140 (क) पर ईवीएम मशीन खराब होने से नहीं हुआ मतदान, मतदाताओं में निराशा, बेतरी गांव का मामला 12:54 PM - अररिया उपचुनाव : राजद प्रत्याशी

सरफराज आलम ने अपना वोट दिया. उन्होंने अपनी जीत का दावा करते हुए भाजपा पर प्रहार किया और कहा, जो शीशे के घर में रहते है दूसरों पे पत्थर नहीं मारते. 12:38 PM - बिहार उपचुनाव : अररिया में दोपहर 12 बजे तक 31.25 फीसदी मतदान, भभुआ में 24.5 फीसदी मतदान और जहानाबाद में 28.6 फीसदी मतदान की सूचना 12:25 PM - जहानाबाद में बूथ संख्या 94 पर दहशत फैलाने की नियत से फायरिंग की सूचना, किसी के हताहत हाेने की कोई खबर नहीं 12:13 PM - भभुआ में कांग्रेस प्रत्याशी शंभु सिंह पटेल ने जिला प्रशासन पर लगाया गंभीर आरोप, कहा- उन्हें चुनाव में हराने की हो रही है साजिश, केंद्र और बिहार सरकार के इशारे पर चल रहा काम 11:47 AM - बिहार उपचुनाव : प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने की भभुआ में पुनर्मतदान की मांग 11:19 AM - प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादिरी का बड़ा आरोप, भभुआ विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को हराने की हो रही है साजिश, 100 से अधिक ईवीएम मशीनों में मिली गड़बड़ी की शिकायत 11:11 AM - भभुआ : ईवीएम खराब होने की कांग्रेस की शिकायत, निर्वाचन विभाग ने आरोप को लेकर डीएम से मांगी जानका

9:03 AM - अररिया लोकसभा सीट के लिए नरपतगंज विधानसभा में 7.5, रानीगंज में 8, फारबिसगंज में 9, अररिया में 9, जोकिहाट में 10 और सिकटी विधानसभा में 8 फीसदी लोग वोट डाल चुके हैं. 8:32 AM - भभुआ में बूथ संख्या 115 एवं 116 के ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत 8:21 AM - अररिया के कुशियार गांव में बूथ संख्या 37और 37(ए) पर मतदान का किया गया बहिष्कार. 8:05 AM - उपचुनाव : जहानाबाद-अरवल सीमा को किया गया सील, जिले से सटे थानों को दिये गये विशेष निर्देश, किंजर और कुर्था थाने से गुजरने वाली गाड़ियों पर विशेष नजर 7:39AM - भभुआ नगर के बूथ संख्या 12, 15 और 16 पर इवीएम खराब रहने के कारण देर से शुरू हुआ मतदान. भभुआ विधानसभा के बूथ संख्या 20 पर भी ईवीएम खराब होने मतदान विलंब से शुरू हुआ. 7:27 AM - भभुआ के मीरियां गांव में वोट बहिष्कार सड़क के लिए करने का निर्णय ग्रामीणों ने लिया था, लेकिन अब तक दो लोगों ने मतदान कर दिया. 7:15 AM - जहानाबाद अख्तियारपुर बूथ संख्या 6 पर सड़क को ले किया गया वोट का बहिष्कार.

शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष मतदान को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने संवेदनशील और अति संवेदनशील बूथों पर सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये गये हैं. इन तीनों क्षेत्रों में 2826 मतदान केंद्र बनाये गये हैं और कुल 22 लाख 84 हजार 397 मतदाता वोट डालकर 38 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे. उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी बैजूनाथ प्रसाद सिंह के मुताबिक अररिया लोकसभा क्षेत्र में 7 जबकि जहानाबाद में 14 और भभुआ विधानसभा सीट के लिए 17 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. इनमें 6 महिला प्रत्याशी भी शामिल हैं. जहानाबाद और भभुआ में 3-3 महिलाएं अपनी किस्मत आजमा रही हैं, जबकि अररिया लोकसभा सीट पर सभी 7 प्रत्याशी पुरुष हैं. अररिया लोस चुनाव में 2143, जहानाबाद में 357 और कैमूर में 326 मतदान केंद्र बनाये गये हैं. अररिया लोकसभा क्षेत्र में 17 लाख 37 हजार 471, जहानाबाद विस क्षेत्र में 2,58, 789 जबकि भभुआ में 2,86,105 मतदाता हैं.

नये सियासी गठबंधनों की साख की लड़ाई? :-उपचुनाव को मिशन-2019 का सेमीफाइनल मानकर एनडीए और महागठबंधन की ओर से धुआंधार प्रचार किया गया. चुनाव प्रचार के दौरान महागठबंधन ने घोटाले और आरक्षण के मुद्दे पर सत्तारूढ़ दलों के प्रत्याशियों को कमजोर करने की कोशिश की तो सत्तारूढ़ दलों ने भी लालटेन युग एवं आतंक राज को उछालकर प्रतिद्वंद्वियों की हवा निकालने में कसर बाकी नहीं रखी. लोकसभा की अररिया और विधानसभा की जहानाबाद एवं भभुआ सीटों पर दोनों गठबंधनों के बड़े नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव समेत कई नेता एवं मंत्री मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए चुनावी सभा कर चुके हैं.